किसानों की हुंकार रैली में नहीं हुए शामिल गहलौत

राजस्थान। कांग्रेस प्रदेश कमेटी ने सीकर में जिलास्तर पर किसान हुंकार रैली को आोयजित किया इस रैली को आयोजित करने की तैयारी एक सप्ताह पहले से ही प्रदेश की कांग्रेस कमेटी कर रही थी,जिसमें पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रय महामंत्री अशोक गहलौत के शामिल होना अंतिम वक्त पर निर्शत कर दिया गया।

आमसभा में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महामंत्री व राजस्थान प्रभारी अविनाश पांडे, विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी सहित अन्य स्थानीय नेतागण उपस्थित रहे। सभा में उपस्थित लोगों को इस बात को लेकर राजनीतिक ध्रुवीकरण की पुष्टि हुई जब कांग्रेस के जिलाध्यक्ष व विधायक गोविन्द सिंह डोटासरा, विधायक नारायण सिंह, पूर्व विधानसभाध्यक्ष दीपेन्द्र सिंह शेखावत, नीमकाथाना के पूर्व विधायक रमेश खण्डेलवाल, सहित मंच संचालक व जिला कांग्रेस कमेटी के महामंत्री राजेन्द्र शर्मा सहित किसी भी मंचस्थ नेता ने अपने उद्बोधन में पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलौत के आने की घोषणा,उनके कार्यक्रम के निरस्त होने तक के बारे में कुछ भी नही कहा।

आयोजित सभा में उपस्थित लोगों के बीच बातचीत में कांग्रेस में गुटबंदी का हवाला देते हुए वर्तमान में प्रभावी नेताओं के समक्ष अपनी हैसियत बचाने की जुगत चलती रही।लोगों का मानना है की वर्तमान प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट के निर्देशन में आयोजित किसान हुंकार रैली में उपस्थिति ना होने का कारण भी पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलौत के संकेत है, जिसका पूर्व विधानसभा अध्यक्ष दीपेन्द्र सिंह शेखावत ने अपने संबोधन में इशारों में उल्लेख भी किया। पूर्व विधानसभाध्यक्ष ने कहा की पांच दिन पहले सूचना होती तो कृषि उपज मण्डी प्रांगण को लाखों किसानों से भर दिया जाता। आज की तरह मामूली संख्या नजर नहीं आती। सोशल मीडिया में यह संदेश जरूर प्रसारित होता रहा कि पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलौत स्वास्थ्य कारणों से कार्यक्रम में सीकर नही आ सके।