फर्जी भर्ती गिरोह लेफ्टिनेंट कर्नल गिरफतार: राजिस्थान

 

जयपुर। सरकारी नौकरी दिलाने वाले एक और शातिर गिरोह को पुलिस ने गिरफ्त किया है, राजिस्थान की एटीएस टीम ने भारतीय सेना मे भर्ती कराने वाले गिरोह का पर्दाफाश करते हुए एक लेफ्टिनेंट कर्नल समित 5 को गिरफतार किया है। और 10 दिन के पुलिस रिमांड पर भेजा है।

सेना मे भर्ती करवाने की गारंटी देने वाले गिरोह को राजिस्थान एटीएस टीम ने 23 मई को अपनी गिरफत मे ले लिया है, जिस मे भारतीय सेना के लेफ्टिनेंट कर्नल जगजीत पुरी समित 5 को गिरफतार किया है। एटीएस टीम ने जगजीत पुरी को कोर्ट में पेश किया। कोर्ट मे पूछताछ कर न्यायधीश ने 10 दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा है। राजस्थान एटीएस के महानिरीक्षक के नेतृत्व में बुधवार रात जगजीत पुरी को गिरफ्तार किया गया था। जगजीत पुरी जोधपुर में तैनात है राजस्थान एटीएस के महानिदेशक उमेश मिश्रा के मुताबिक जगजीत पुरी जयपुर, जोधपुर, सीकर, अलवर, सवाइ माधोपुर व झुंझुनूं में सेना भर्तीयों के मेडिकल बोर्ड का सदस्य है।

उमेश मिश्रा के मुतबिक इस मामले में गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ मे कर्नल पुरी के होने की बात सामने आई। जगजीत पुरी पर गौर करते हुए उन्हे पूछताछ के लिए बुलाया गया। पुरी से पूछताछ मे जब पुरी के पैसे लेने की बात का खुलासा हुआ तो बुधवार रात को ही जगजीत को गिरफ्तार कर लिया गया। पुरी दिल्ली और बरेली में भी रह चुके है।

जगजीत पुरी अब तक 30-40 से भी ज्यादा युवाओं से तगडी रिश्वत ले कर मैडिकल सर्टिफिकेट उपलब्ध कराया है। मुख्य आरोपी नंद सिंह राठौड़ के मुरलीपुरा आवास से 1.79 करोड़ की नगदी बरामद की। तीन अन्य गिरफ्तार लोगों में महेन्द्र सिंह, सुनील व्यास और अर्जुन सिंह शामिल है।