झूठा निकला महिला का सर मुंडवां कर घर से निकालने का मामला

लखनऊ। राजधानी में 2 जुलाई को एक मामला सामने आया था जिसमें एक महिला ने अपने ससुराल वालों पर आरोप लगाया था कि उसके ससुराल वालों ने दहेज की खातिर उसका सिर मुंडवां कर घर से निकाल दिया था। जिसके बाद उसने ससुराल वालों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। लेकिन अब इसी मामले में एक चौकाने वाला खुलासा हुआ है। जांच में पुलिस को पता चला कि महिला ने झूठा मामला दर्ज कराया था। उसने खुद नाई की दुकान पर जाकर अपना सिर मुंडवाया था और ससुराल वालों पर झूठा आरोप लगाया था। मामला लखनऊ के पारा थाने का है। यहां के डूंडा कॉलोनी के रहने वाले कासिम का शबनम से 2 साल पहले निकाह किया था। महिला का आरोप था कि शादी के कुछ दिन बाद ही ससुराल वाले और कासिम उसको शारीरिक और मानसिक यातनाएं देने लगे। ससुराल वाले उससे कभी फ्रिज तो कभी टीवी की मांग कर उसको तंग करते थे और पति तलाक देने की धमकी देता था।

बता दें कि महिला का आरोप था कि आधी रात को सास ने मेरे हाथ बांधे उसके बाद सास और पति ने मेरा सिर मुंडवा दिया। इसके बाद कपड़े फाड़कर मुझे 9 महीने के बेटे के साथ घर से निकाल दिया। दरवाजे के बाहर खड़े होकर मैने बहुत आवाजें दीं और मैं बहुत चिल्लाई लेकिन किसी ने दरवाजा नहीं खोला। उसके बाद 100 नंबर पर सूचना दी उसके बाद पुलिस ने आकर मुझे घर के अंदर भेजने की कोशशि की लेकिन मैंने मना कर दिया। मैंने कहा कि अब जहर खाना मंजूर करूंगी लेकिन ससुराल में कदम नहीं रखूंगी। उसके बाद पुलिस आरोपियों को थाने ले गई।

सिर मुंडवाने से पति ने किया इंकार

थाने ले जाकर जब शबनम के पति से पूछताछ की गई तो उसका कहना था कि मैंने बैगम का सिर नहीं मुंडा। उसके सिर में जुओं की शिकायत होने के कारण उसने खुद एक हफ्ता पहले अपनी मर्जी से नाई की दुकान पर जाकर अपना सिर मुंडवाया था। अगर किसी भी महिला का सिर जबरदस्ती मुंडा जाता है तो उसके सिर पर कटने या चोट का निशान जरूर होता है। लेकिन उसके सिर पर कोई निशान नहीं है। मेरा उससे झगड़ा जरूर होता था लेकिन मैंने उसपर कभी हाथ नहीं उठाया उसे कभी पीटा नहीं। मुझे नहीं पता कि उसने इतना बड़ा झूठ क्यों बोला। कासिम का कहना है कि जिस नाई से उसने अपना सिर मुंडवाया था आप उससे जाकर पूछ सकते हैं। पुलिस ने जब मामले की जांच की तो कासिम की बात बिल्कुल सच निकली। गूड्डू नाई ने बताया कि उसी ने शबनम का सिर मुंडा थी। एसएसपी का कहना है कि मामला कुछ और ही है जबरदस्ती सिर नहीं मुंडवाया गया है। पुलिस का कहना है कि आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई थी लेकिन मामला झूठा निकला।