शॉर्ट सर्किट से फैक्ट्री में लगी आग, नशे की हालत में मिला गार्ड

देहरादून। सोमवार देर रात देहरादून की एक फैक्ट्री में शॉर्ट सर्किट होने से हादसा हो गया। पटेल नगर औद्दोगिक क्षेत्र में की एक खुखरी फैक्ट्री में आग लगने से सारा सामान जल कर राख हो गया। फैक्ट्री में रखे समानों में धमाके भी होने लगे, जिससे आस-पास के इलाके में अफरा-तफरी का माहौल बन गया और आग की लपटे इतनी ज्यादा फैल गई थी कि आस-पास के क्षेत्र में भी आग लगने की पूरी आशंका बन गई थी। फायर ब्रिगेड कर्मी ने जब आग की लपटों को काबू में लेने के लिए पानी का प्रेशर बढ़ाया तो एक बार तो आग और ज्यादा भड़क गई। लेकिन दमकल कर्मीयों ने काफी मशक्कत करने पर लगभग एक घंटे के बाद आग को काबू में कर लिया गया। शॉर्ट सर्किट अग्नी कांड में बताया जा रहा है कि लाखों का सामान, मशीनें तथा लकड़ी को आग ने अपनी चपेट में ले लिया है।

Factory,fire,from short circuit,gaurd,Found,condition,intoxication,fire department,police,
fire in factory at dehradun

पटेल नगर औद्दोगिक क्षेत्र में उद्दोग निदेशालय के समीप आर्मी ट्रेडर्स के नाम से एक खुखरी और तलवार बनाने की फैक्ट्री है। रात करीब 10 बजे अचानक फैक्ट्री में से काफी धूंआ निकल ने लगा जिससे आस-पास के क्षेत्र में भगदड़ मच गई और लोग सतर्क हो गए। फाक्ट्री धू-धू कर जल रही थी और चौकीदार मजे की नींद ले रहा था। ताज्जुब की बात तो यह है कि इतनी जबरदस्त आग लगने के बाद भी चौकीदार की नींद नही खुली। आखिर लोगों ने उसे उठाने में काफी मशक्कत की और दरवाजा पीट-पीट कर उसको नींद से उठाया। फैक्ट्री में विस्फोट होने से आग काफी ज्यादा फैल गई था। फैक्ट्री की आग इतनी फैल गई थी कि दमकल की गाड़ी भी वहां तक नही जा पा रही थी।

बिजली विभाग की लापरवाही के कारण आग पर काबू पाने का कर्य लगभग 40 मिनट की देरी से शुरू किया गया। पुलिस और दमकल कर्मी तुरंत मौके पर पहुंचे तो उन्होंने तत्काल बिजली विभाग में इलाके की इलेक्ट्रिक सिटी की सप्लाई को बंद करने के लिए कहा गया , लेकिन विद्युत विभाग के कर्मचारीयों ने लाइन 40 मिनट बाद बंद की गई। दमकल कर्मीयों ने करंट फैलने के दर से लाइन चालू के समय आग पर पानी फेंकने का रिस्क नहीं लिया था। बिजली गुल होने के बाद आग पर काबू पाने का कार्य शुरू किया गया। बताया जा रहा है कि फैक्ट्री का चौकीदार भी नशे की हालत में पाया गया है, इसी के कारण उसे कुछ भी पता नही लग पाया और ना ही किसी को हादसे के बारे में जानकारी दे सका।