मेरी हर जीत देश के लिए है : विजेंदर सिंह

नई दिल्ली। पूर्व विश्व चैंपियन फ्रांसिस चेका के खिलाफ 17 दिसम्बर को अपना डब्ल्यूबीओ सुपर मिडिलवेट एशिया पैसेफिक खिताब बचाने के लिए भारत के पेशेवर मुक्केबाज विजेंद्र सिंह पूरी तैयारी के साथ उतरेंगे। विजेंदर का कहना है कि इस साल खेले गए मुकाबलों में मिली हर जीत उनके लिए नहीं, बल्कि उनके देश के लिए है। ओलम्पक कांस्य पदक विजेता विजेंदर के लिए यह साल काफी शानदार रहा है। वह इसी साल आस्ट्रेलिया के कैरी होप को हराते हुए डब्ल्यूबीओ एशिया पैसेफिक सुपर मिडिलवेट चैम्पियन बने थे।

vij

इस जीत के साथ उन्होंने डब्ल्यूबीओ विश्व रैंकिंग में बड़ी छलांग लगाई और अब वह 10वें स्थान पर हैं। अपने इस साल के बारे में विजेंदर ने कहा, “यह उपलब्धि मेरी, मेरे प्रशिक्षक और टीम की ओर से की गई कड़ी मेहनत के बाद मुझे मिली है। मैं इसके लिए अपने कोच, प्रचारक और टीम को शुक्रिया कहना चाहता हूं। इसके साथ ही मैं अपने प्रशंसकों और मेरा मुकाबला देखने के लिए आने सितारों, खिलाड़ियों का शुक्रगुजार हूं।” उल्लेखनीय है कि तंजानिया के 34 वर्षीय अनुभवी मुक्केबाज चेका के पास करियर के 300 राउंड मुकाबलों का अनुभव है, वहीं विजेंदर ने 2015 में शुरू की गई पेशेवर मुक्केबाजी में 27 राउंड मुकाबले खेले हैं। ऐसे में चेका जैसे अनुभवी खिलाड़ी से मुकाबला भारतीय पेशेवर मुक्केबाज के लिए काफी चुनौतीपूर्ण साबित हो सकता है।

इस बारे में विजेंदर ने कहा, “चेका काफी अनुभवी खिलाड़ी हैं और उन्होंने कई राउंड जीते हैं लेकिन मैं भी मजबूत, युवा और लड़ने के लिए लालसी हूं। वह मेरे घर में मुझसे मुकाबले के लिए आ रहे हैं और उन्हें मैं जीतने नहीं दूंगा। त्यागराज स्टेडियम मेरी जमीन है और मुझे मेरे समर्थन के लिए भारी भीड़ के इकट्ठा होने की उम्मीद है।”