डिजिटल पेमेन्ट जन जागरूकता कार्यक्रम के दौरान कैशलेस को प्रचलन में लाने पर दिया गया जोर

सोनभद्र। सोनभद्र के पुलिस लाइन चुर्क परिसर में जिला स्तरीय डिजिटल पेमेन्ट जन जागरूकता बढ़ावा देने सम्बन्धी कार्यशाला/प्रशिक्षण समारोह आयोजित किया गया, जिसमें सरकारी मशीनरी से जुडे़ अधिकारियों व कर्मचारियों के साथ ही मा0 जन प्रतिनिधियों, छात्र एवं छात्राएं, उद्योग बन्धु के पदाधिकारी, व्यापार बन्धु के पदाधिकारी, बार एशोसिएशन के पदाधिकारी, चिन्हित जन सेवा केन्द्रो के पदाधिकारी के साथ ही प्रबुद्ध नागरिक, गणमान्य व्यक्तियो ने शिरकत की।इस कार्यक्रम में बताया गया कि नेशनल डिजिटल साक्षरता मिशन के तहत शहर से लेकर गाँव तक डिजिटल इण्डिया कैशलेस को बढ़ावा देने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व प्रदेश के लोकप्रिय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी प्रयासरत है।

डिजिटल कैशलेस सिस्टम के लिए 06 तरीके अपनाये जा रहे है, जिसमें भीम ऐप, यूपीआई, यूएसएसडी, प्री-पेड वालेट, कार्ड, पीओएस और आधार इनेबिल्ड सिस्टम की जानकारी आम जनता तक पहुँचाना, जिससे आम नागरिक प्रशिक्षित/जागरूक होकर ई-पेमेन्ट के माध्यम से कैशलेस की जानकारी हासिल करते हुए आधुनिक तकनीक के 21वीं सदी के मुताबिक अपना लेन-देन सुगमता से करते हुए कैश से सम्बन्धित खतरो से बचा जा सकता है।

जिला स्तरीय डिजिटल पेमेन्ट जन जागरूकता समारोह के साथ ही तहसील स्तरांं पर व ग्राम पंचायत स्तरों पर आयोजित होने वाले कार्यक्रमों के व्यापक प्रचार-प्रसार पर बल दिया जा रहा है। डिजिटल पेमेन्ट यानी कैशलेस सिस्टम पूरे तरीके से सुरक्षित, उपयोगी और सुगम है। सिर्फ आवश्यकता है अपने हिचक को छोड़ने की जैसे ही डिजिटल पेमेन्ट जो भी नागरिक करेगा उसकी सुगमता और सरलता के साथ ही सुरक्षा के लिहाज से सदैव इस्तेमाल के लिए तत्पर रहेगा। कैशलेस सिस्टम से होने वाले फायदे में सबसे बडी समय की बचत और सुरक्षा है।

 -प्रवीण पटेल, सोनभद्र