चुनाव आते ही एक बार फिर राम और राम मंदिर की भाजपा को आई याद

फैजाबाद। राम मंदिर और राम के नाम पर प्रदेश से लेकर केंद्र तक की सत्ता का सुख भोग चुकी भाजपा को चुनाव आते ही एक बार फिर राम और राम मंदिर की याद आ गयी। जब जब चुनाव आता है भाजपाई राम नाम की नईया पर सवार होने से नहीं चूकते। इसी तरह इस चुनाव में भी भाजपा एक बार फिर राम और राममंदिर मुद्दे को भुनाने में कोई कोर कसर नही छोड़ रही है। इससे एक बात साफ़ नजर आ रही है भाजपा को ये लगता है राम की पतवार के बिना नैया पार लगाना बहुत ही कठिन है।

रुदौली और अयोध्या विधान सभा से प्रत्यासी के चनावी जनसभा में भाजपा के फायर ब्रांड नेता विनय कटियार मतदाताओं से ये कहते नजर आ रहे है कि हमारी सरकार बनाओ राम मंदिर हम बनाएंग, जिस तरह सरदार पटेल ने सोमनाथ में मंदिर का निर्माण कराया था उसी तरह हम अयोध्या में कानून बनाकर राम मंदिर का निर्माण करायेंगे। उन्होंने साफ़-साफ़ कहा है कि अगर उनकी सरकार बनी तो राज्यसभा में बहुमत मिलते ही अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण कराया जाएगा।

कटियार ने कहा की राम मंदिर का निर्माण तीन तरीके से हो सकता है पहला कानून के तहत मंदिर निर्माण, दूसरा तरीका संसद के अन्दर कानून बना कर मंदिर बनाये और तीसरा तरीका बातचीत के माध्यम से मदिर का निर्माण करे, आगे उन्होंने कहा कि जहां तक मै मानता हूँ बातचीत का रास्ता बंद हो रहा है। वही उन्होंने कहा कोर्ट ने राम लला के जमीन को तीन हिस्सों में बाँट दिया जिसमे दो हिस्सा हिन्दू समाज को दे दिया गया वही एक हिस्सा मुस्लिम समाज को दे दिया गया, इतना ही नहीं उन्होंने कहा की जब वह जमीन राम लला की है तो तीसरे को यानि मुस्लिम पक्ष को हिस्सा देने की जरुरत क्यों पड गयी।

उन्होंने कहा कि सभी को भाजपा का साथ पसंद है। क्योकि हम पूजा पाठ करने वाले लोग है राम को मानने वाले लोग है। हम जीतेंगे तो सब अच्छा होगा। हम जीतेंगे तो राज्य सभा में हमारी संख्या बढ़ेगी दबाव बनेगा और राम मंदिर निर्माण होगा। हम चुनाव लड़ रहे है बिकास के नाम पर लेकिन जीतेगे तो राम मंदिर का निर्माण होगा ।

दृष्टांत, संवाददाता