58 अभ्यर्थियों पर निर्वाचन आयोग ने की कार्रवाई

देहरादून। प्रदेश में 2012 में हुए विधानसभा चुनावों के बाद भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी किए गए गाइड लाइन का पालन ना करना नेताओं को भारी पड़ गया। भारत निर्वाचन आयोग ने राज्य के 07 विधानसभाओं से 2012 में चुनाव लड़ने वाले 58 लोगों को चुनाव खर्च का विवरण न देने के आरोप में अगले तीन साल तक किसी भी तरह के चुनाव लड़ने से आयोग्य घोषित कर दिया है।

election-commission-of-india

किस विधानसभा क्षेत्र से कितने विधायकों का पत्ता हुआ साफ

ऋषिकेश विधानसभा से 06
मसूरी विधानसभा से 09
राजपुर विधानसभा से 09
रायपुर विधानसभा से 09
धर्मपुर विधानसभा से सबसे अधिक 11
सहसपुर विधानसभा से 09
विकासनगर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़े 07 लोगों पर यह कार्रवाई हुई है।

निर्वाचन में खर्च किए गए पैसे का नहीं दिया ब्यौरा

भारत निर्वाचन आयोग के सचिव राहुल शर्मा ने बताया कि प्रदेश में विधानसभा चुनाव लड़ने के बाद 58 अभ्यर्थियों से उनके निर्वाचन में किए गए खर्च का ब्यौरा मांगा गया था। उन्होंने यह भी बताया कि निरर्हित घोषित किए गए सभी अभ्यर्थी आदेश की तारीख से अगले तीन वर्षों के लिए संसद के किसी भी सदन या किसी राज्य अथवा संघ राज्य क्षेत्र की विधानसभा अथवा विधान परिषद के सदस्य के लिए आवेदन करने के लिए अपात्र घोषित किए गए हैं।