शिक्षा मंत्री ने दिए निर्देश, री-एडमिशन फीस होगी वापस

देहरादून। राजधानी देहरादून में निजी स्कूलों की ओर से वसूली जा रही फीस और तमाम तरह के अन्य मनमानी लागत वसूलने के मामले में मंगलवार(25-04-17) को प्रदेश के शिक्षा मंत्री अरविन्द पाण्डेय से अभिभावकों ने मुलाकात की। इस मुलाकात के दौरान अभिभावकों ने शिक्षा व्यवस्था में आ रही तमाम परेशानियों से पाण्डेय को अवगत कराते हुए इस पर कार्रवाई करने की मांग की।

अभिभावकों का कहना है कि स्कूल द्वारा प्रतिवर्ष फीस शुल्क में वृद्धि की जाती है व कतिपय ऐसे शुल्क, री-एडमिशन आदि के नाम पर पूर्व से पढ़ रहे बच्चों की भी शुल्क जमा कराई जाती है। इतना ही नहीं टीसी का शुल्क भी 500 रुपये हैं, जो बहुत अधिक है, जिसके कारण अभिभावकों को आर्थिक परेशानी का सामना करना पड़ता है।

शिक्षामंत्री पाण्डेय द्वारा अपर जिलाधिकारी देहरादून वीर सिंह बुदियाल, सिटी मजिस्ट्रेट सीएस मर्तोलिया, एसपीसीटी अजय सिंह को बुलाकर लवडेल स्कूल के अभिभावकों के साथ स्कूल प्रबन्धन से तत्काल वार्ता करने के निर्देश दिए गए हैं।

शिक्षा मंत्री ने इस शिकायत का संज्ञान लेते हुए अपर मुख्य सचिव डॉ. रणबीर सिंह को निर्देश दिए कि प्रदेश के समस्त जिलाधिकारियों को निर्देश जारी करें कि वह प्राइवेट स्कूलों के प्रबन्धनतंत्र से वार्ता कर री-एडमिशन के नाम पर वसूले गए शुल्क की तत्काल अभिभावकों को वापसी कराई जाएं।

उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि कोई भी प्राइवेट स्कूल विभिन्न सुविधाओं खेल, मनोरंजन अन्य सेवाओं के नाम पर अभिभावकों से शुल्क लेते हैं, किन्तु सेवाएं नहीं देते हैं। ऐसे शुल्क की वापसी भी तुरन्त कराई जाए। उन्होंने फीस वृद्धि के प्रकरण पर भी जिला प्रशासन के माध्यम से मॉनिटरिंग कराने के निर्देश दिए हैं।

आशु दास