फतेहपुर में चलता शिक्षा माफियाओं का खेल

फतेहपुर। उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले में शिक्षा माफिया सरकार के नियमों पर पलीता लगाने में जुटे हुए हैं। सैकड़ों से अधिक निजी स्कूल के संचालकों ने बिना सरकारी मान्यता के ही स्कूलों को संचालित कर मनमानी फीस वसूलनी शुरू कर दी है। स्कूलों पर नकेल कसने के लिए शिक्षा विभाग ने 31 स्कूलों को नोटिस जारी कर एक सप्ताह में स्कूल बंद करने का अल्टीमेटम भी दे रखा है।

fake school

अल्टीमेटम देने के बाद भी शिक्षा माफिया अफसरों के इस आदेश को ढेंगा दिखाने में जुटे हैं। जिससे सरकार की पारदर्शिता पर अब सवाल खड़े होते जा रहे हैं। फतेहपुर जिला मुख्यालय से लेकर ग्रामीण इलाकों में करीब तीन सौ ऐसे स्कूल संचालित हैं जिन्होंने ने पहली कक्षा एक से लेकर पांच तक कि मान्यता ले रखी है। लेकिन स्कूलों का संचालन जूनियर से लेकर दसवीं और बारहवीं कक्षाओं तक किया जा रहा है। इतना ही नहीं नियम कायदों की धज्जियां तो उस समय उड़ जाती हैं जब ये शिक्षा माफिया बिना किसी रोक टोक के ही इंग्लिश मीडियम स्कूलों का संचालन कर रहे हैं। जिससे हजारों छात्र छात्राओं का भविष्य खतरे में हैं।

ऐसे स्कूलो के संचालकों से निपटने के लिए हर साल शिक्षा विभाग के द्वारा रणनीति बनाई जाती है लेकिन कार्रवाई का मापदंड नहीं तय होता है। इस बार शिक्षा विभाग के अफसरों ने एक बार फिर से कवायत की है और ऐसे स्कूलों के दस्तावेज खंगालने का काम शुरू हो गया है। अब तक 31 स्कूलों को नोटिस जारी कर एक सप्ताह का समय दिया गया है। अब देखना है शिक्षा माफियाओं पर कितनी कार्रवाई की जाती है।