रामनवमी पर निकली झाकियों में आसाराम को बताया गया बेकसूर

जयपुर। यौन शोषण मामले में जेल में बंद आसाराम एक बार फिर से खबरों में है लेकिन इस बार उनका केस नहीं बल्कि रामनवमी के अवसर पर निकली शोभायात्रा में शामिल उनकी झाकियां है। इन शोभायात्राओं में उनकी चार झाकियां निकली जिसमें दो पोस्टरों के ऊपर आसाराम पर लगे आरोपों को सिरे से खारिज किया गया है।

झांकी में फोटो के साथ अशोक सिंघल की तरफ से उनके समर्थन में दिया गया बयान भी है। दरअसल सिंघल ने जोधपुर  में जाकर आसाराम से मुलाकात की थी। वहीं अगर उन पर चल रहे केस की बात की जाए तो कुछ दिन पहले जहां कोर्ट ने झूठी मेडिकल रिपोर्ट देने के आरोप में एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया था तो वहीं दूसरे रेप के मामले में जमानत देने से इंकार भी कर दिया था।

कोर्ट में आसाराम के ऊपर बलात्कार और यौन शोषण के दो मामले चल रहे है जिसमें से एक मामला राजस्थान का है तो दूसरा गुजरात का। आपको बता दें कि आसाराम पर एक नाबालिग से दुष्कर्म का आरोप है और वो इस मामले में पिछले तीन सालों से जोधपुर जेल में बंद हैं। सुप्रीम कोर्ट ने आसाराम के खिलाफ नई एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया है। कोर्ट ने अपनी सेहत की झूठी मेडिकल रिपोर्ट देने के आरोप में एक लाख रुपए का जुर्माना लगाया था।