तस्वीरों में देखें…जब हरीश रावत ने मिलाया पीएम मोदी से हाथ !

देहरादून। उत्तराखण्ड विधानसभा चुनावों से पहले पीएम मोदी ने प्रदेश की जनता को तोहफा देते हुए देहरादून में 12000 करोड़ की लागत से बनने वाली चारधाम यात्रा की नई आल वैदर सड़कों का शिलान्यास किया। शिलान्यास करने से पहले मोदी का स्वागत करते हुए हरीश रावत ने हाथ मिलाया। कुछ देर के लिए हरीश रावत और  मोदी ने बातचीत भी की।

चुनावों से पहले राज्य के मुख्यमंत्री पीएम के दौरे पर कटाक्ष करने में लगे हुए थे। कई बार उन्होंने खुलेआम जनसभाओं में मोदी का विरोध करते नजर आए। लेकिन पीएम मोदी के प्रदेश में आते ही हरीश रावत ने अपना मन बदल लिया।

harish-rawat

शिलान्यास करने के बाद जनता से मुखातिब होते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता वर्तमान समय में बर्बाद हो चुकी है। इन हालातों से निपटने के लिए प्रदेश को डबल इंजन की जरुरत पड़ेगी। केंद्र सरकार द्वारा एक इंजन पहले की दिल्ली में लगाया जा चुका है, तो वहीं इंजन लगाने का काम देहरादून में शुरू किया जा चुका है ताकि प्रदेश का विकास किया जा सकें।

नहीं भरा था मैदान

जनता को संबोधित करते हुए मोदी ने शिकायत करते हुए कहा कि जब साल 2014 के लोकसभा चुनावों में वो शहर में आए थे तब आधा मैदान खाली पड़ा था। उन्होंने कहा कि पहले और अब के समय में काफी बदलाव आ चुका है।

modi-uttrakhand-1

ऑल-वेदर सड़क का शिलान्यास

मंगलवार को प्रधानमंत्री मोदी ने जिस सड़क का शिलान्यास किया है वो सड़क केदारनाथ हादसे में खराब हो गई थी। अपने संबोधन के दौरान मोदी ने हादसे में जान गवांने वाले लोगों को भी श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा कि 12000 करोड रुपए की लागत से बनने वाली इस सड़क से उन बूढ़े माता-पिता को राहत मिलेगी जो अपने बच्चों के सहारे यहां आते हैं।

उन्होंने कहा कि इस योजना से उत्तराखंड का विकास होगा तो देश के उन लोगों को भी ख़ुशी होगी जो इस देवभूमि और मां गंगा के दर्शन के लिए आते हैं। पीएम ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पर व्यंग्य करते हुए कहा कि जल्दबाजी में चलने वाली योजनाएं राजनीति तो चला सकती हैं पर समाजनीति नहीं। उन्होंने कहा कि नेताओं को समझना चाहिए कि ये जनता है सब जानती है। अब जनता को बरगलाने का काम नहीं चलेगा।

पीएम ने कहा कि जब मैने प्रधानमंत्री का दायित्व संभाला तो मुझे बताया गया था कि देश में 18 हजार गांव ऐसे हैं जो 18वीं सदी में जी रहे है। मैंने कहा कि एक हजार दिन में वहां सब सुविधाएं पहुंचानी है। आज 12 हजार गांवों में हम सब सुविधाएं दे चुके हैं और बाकी छह हजार गांवो में भी जल्दी सभी सुविधाएं पहुंच जाएंगी। इसमें उत्तराखंड के गांव भी शामिल है। मोदी ने कहा कि उत्तराखंड में मुझे एक कार्यकर्त्ता के तौर पर काम करने का अनुभव है। इस देवभूमि का आशीर्वाद प्राप्त कर मैं आज देश की सेवा कर रहा हूँ। उन्होंने कहा कि हमने ढाई साल में 5 करोड़ घरों तक गैस चूल्हा पंहुचा दिया है। प्रधानमंत्री ने जनता से सवाल पूछते हुए कहा कि आप बताइए ये कार्य गरीबों के लिए किया या अमीरों के लिए।

वहीं, जवानों की बात करते हुए मोदी ने कहा कि इस राज्य में हर घर में माता जीजाबाई बसती हैं, हर घर में वीर सैनिक पलते हैं। सैनिकों की 40 साल पुरानी मांग ‘वन रैंक वन पेंशन’ को हमने पूरा किया। इस मांग को पूरा करने के लिए कुल 10 हजार करोड़ के बजट में से अब तक 6600 करोड़ रुपये दिए जा चुके हैं, बाकी भी जल्द ही देने जा रहे हैं। मोदी ने कहा कि देश की जनता ने मुझे फीता काटने के लिए नहीं, कुछ कर दिखाने के लिए पीएम बनाया है। उन्होंने कहा कि मैं देश का चौकीदार हूं और चौकीदारी कर रहा हूँ.. तो कुछ काले मन वालों को तकलीफ हो रही है। उन्होंने कहा कि देश से काला धन और काला मन दोनों समाप्त होने चाहिए। हमने भ्रष्टाचार समाप्त करने के लिए वर्ग तीन और चार की नौकरियों में साक्षात्कार समाप्त किया। हमने राज्यों को भी ऐसा करने को कहा लेकिन राज्यों ने ऐसा नहीं किया। उन्होंने कहा कि जल्द ही उत्तराखंड में भी भाजपा की सरकार बनते ही यहां भी ऐसा ही किया जाएगा।