चीन में शौक से खाया जा रहा कुत्तों का मांस, मना रहे त्यौहार

युलिन। चीन के युलिन शहर में ‘डॉग मीट फेस्टिवल’ शुरू हो गया है जिसमें बड़े चाव से लोग कुत्ते का मांस खा रहे हैं और इस कृत का बचाव भी कर रहे हैं। यह जानकारी गुरुवार को मीडिया रिपोर्ट से मिली। यहां कुत्ते का मांस खाने पर पाबंदी लगा दी गई है,, लेकिन अधारिक रूप से इसे रोकने के लिए कोई प्रयास नहीं किए गए हैं। वैसे चीन के गुवांग्शी प्रांत में हर साल लोग कुत्ते का मांस खाने के लिए एकत्रित होते हैं।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक युलिन शहर में बुधवार को देखा गया कि मरे हुए कुत्ते हुक में टंगे हुए थे और यहां सड़कों पर पुलिस का भारी मौजूदगी थी। लेकिन एक सामाजिक कार्यकर्ता ने कहा कि उन्हें पुलिस ने उस बाज़ार में घुसने से रोक दिया जहां ज़िंदा कुत्ते बेचे जा रहे थे। उल्लेखनीय है कि चीन में कुत्ते का मांस खाने की प्राचीन परंपरा रही है। दक्षिण कोरिया और दूसरे एशियाई देशों के लोग भी कुत्ते का मांस खाते हैं। कुत्ते का मांस खाने वाले लोगों का कहना है कि विदेशी उनके तौर-तरीक़ों में दखल देने वाले कौन होते हैं। कुछ चीनी ये तर्क भी देते हैं कि गर्म महीनों में कुत्ते का मांस खाना लाभकारी होता है।

यहां तक कि जो कुत्ते का मांस नहीं खाते हैं वह भी इस परंपरा का यह कहते हुए बचाव करते हैं कि इसमें कोई आपत्ति नहीं जब तक कि जानवरों की चोरी न हुई हो या फिर उन्हें अमानवीय तरीकों से नहीं मारा गया हो। हालांकि आलोचकों का कहना है कि कुत्ते को दूसरे छोटे शहरों से तंग पिजरों में लाया जाता है और इन्हें बड़ी क्रूरता से मारा जाता है। कई सामाजिक कार्यकर्ताओं का कहना है कि पालतू कुत्तों की चोरी भी होती है।