सपा सुप्रीमों के संसदीय क्षेत्र में डीएम की तानाशाही

आजमगढ़। सपा सुप्रिमों मुलायम सिंह यादव के संसदीय क्षेत्र आजमगढ में एक पूर्व शिक्षक को जिलाधिकारी द्धारा मानसिक रूप से विक्षिप्त बता कर पुलिस द्धारा कथित रूप से पिटे जाने के बाद जेल भेजे जाने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। इस घटना से आक्रोशित विभिन्न सामाजिक संगठनो ने आज मुंह पर काली पट्टी बांध कर नगर में जुलूस निकालकर विरोध प्रदर्शन किया।

azamghar

बता दें कि पूर्व शिक्षक राजीव सिंह अपनी आवाज को बुलन्द करने के लिए हाथो बैनर लेकर नगर के विभिन्न चट्टी चैराहो, मिटींग और रैलीयों में रहते है। 18 दिसम्बर को नये कलेक्ट्रेट के उद्घाटन के अवसर पर जिलाधिकारी से एक सवाल करने पर जिलाधिकारी पूर्व शिक्षक राजीव सिंह से नाराज हो गये। डीएम के नाराज होते ही पुलिस ने पूर्व शिक्षक राजीव सिंह की जमकर पिटाई कर दी। राजीव सिंह चीखता चिल्लाता रह गया लेकिन किसी भी प्रशासनिक या समाजवादी पार्टी के तीन मंत्री भी पूर्व शिक्षक का हाल नही लिया।

डीएम द्धारा पूर्व शिक्षक को जेल में भेजे जाने की घटना के बाद सामाजिक संगठनो ने नगर के रैदोपुर स्थित त्रिमूर्ति तिराहे से गांधी तिराहे तक मुंह पर काली पट्टी बांध कर विरोध और प्रदर्शन किया। सामाजिक संगठनो का कहना है कि पूर्व शिक्षक राजीव सिंह अगर मानसिक रूप से बिमार थे तो उन्हे अस्पताल में भेजा जाना चाहिए था न की गुडे तरह पिट कर जेल भेजा जाना चाहिए था। यह सरासर डीएम अपनी तानाशाही दिखा रहे है। वही जिलाधिकारी ने कहा कि पूर्व शिक्षक का मामला न्यायालय में विचाराधीन है उस मामले पर वह कोई टिप्पणी नही करना चाहते है।

रवि सिंह , संवाददाता