राम भरोसे चल रहा है जिला अस्पताल, आवारा कुत्तों का लगा रहता है जमावड़ा

फतेहपुर। आम जनमानस के स्वास्थ को लेकर सरकार कितनी गम्भीर है, इसपर सवाल खड़ा होता है, लोगो को सरकारी सेवाओं का लाभ मिल सके इसके लिए तरह तरह की स्कीमे चलाई गयी।  जिससे लोगो को स्वस्थ् रखा जा सके।मगर फतेहपुर जिले का जिला अस्पताल राम भरोसे चल रहा हैं। देखने को तो मरीजो की देख रेख के लिए डॉक्टर और नर्स हैं मगर हकीकत कुछ और हैं मरीजो की देख रेख की जिम्मेदारी स्टॉप नर्स की होती हैं मगर इन नर्सो ड्यूटी सिर्फ हाजरी रजिस्टर तक सिमित रह जाती हैं।

अगर किसी मरीज को कोई तकलीफ होती हैं तो वह स्टॉप रूम के चक्कर लगा कर थक जाता हैं। वहां उसको सिर्फ ताला लटका मिलता हैं। और मरीज राम भरोसे अपनी साँसे गिनते हैं। यह नज़ारा हमारे जिले के महिला अस्पताल का हैं। जच्चा बच्चा केन्द्र में एक भी नर्स डियूटी पर नहीं मिली स्टॉप रूम में टाला लटका हुआ मिला। मीडिया ने घंटो वहां इन्तज़ार किया शायद कोई स्टॉप का कर्मचारी आ जाए मगर कोई नहीं आया।

अस्पताल में इंसान के साथ साथ कुत्तो की कमी नहीं। यहाँ पर आवारा कुत्तो का जमावड़ा लगा रहता हैं मगर किसी को इतनी फुरसत नहीं की इनको यहाँ से भगा दे। जब की यह कुत्ते मरीजो का खाना और सामान उठा ले जाते हैं। इतनी बदहाली के बाद भी अस्पताल प्रशासन संजीदा नहीं। इस बारे में जिला अस्पताल के डियूटी पर तैनात डॉक्टर अनूप से बात की गयी तो उन्होंने स्वीकार करते हुए कार्यवाही की बात की। एक लंबे समय से यह बीमार अस्पताल कब स्वस्थ होता हैं। कब अधिकारियों की नींद टूटेगी यह तो समय ही बताएगा ।

 -मुमताज़ इसरार