सैनिकाें को लेकर दिए विवादित बयान में फंसे महाराष्ट्र के विधान परिषद सदस्य

मुम्बई। पूरे देश में विवादित बयानों का दौर लगातार जारी है, इस बार मामला है महाराष्ट्र का जहां पर महाराष्ट्र के विधान परिषद सदस्य प्रशांत परिचारक ने सैनिकों को लेकर विवादित बयान दिया है। एक चुनावी रैली ने उन्होंने कहा कि एक सैनिक को उसकी पत्नी से टेलीग्राम मिलता है कि उसने एक बच्चे को जन्म दिया है। जब वह खुशी में सीमा पर अपने सहयोगियों को मिठाई बांटता है, उसके सहयोगी इसका कारण पूछते हैं।

विधान परिषद सदस्य प्रशांत परिचारक ने कहा कि वह खुशी से बताता है कि उसकी पत्नी ने एक लड़के को जन्म दिया है..यद्यपि वह पूरे वर्ष अपने घर नहीं गया है। हमें इस स्तर की राजनीति रोकनी है। परिचारक ने टिप्पणी राकांपा नेताओं की आलोचना करते हुए की और कहा कि वे सोलापुर जिले में उजानी बांध से जलापूर्ति का श्रेय ले रहे हैं जो इस क्षेत्र में एक संवेदनशील मुद्दा है। परिचारक का वीडियो जब वायरल हुआ तो उनकी आलोचना होने लगी।

विधान परिषद में विपक्ष के नेता एवं राकांपा नेता धनंजय मुंडे ने कहा, परिचारक का बयान जवानों एवं उनकी पत्नियों के प्रति भाजपा की मानसिकता को दिखाता है। उन्होंने वीर जवानों का अपमान किया है और पार्टी (भाजपा) को वोट नहीं देकर उसे सजा दी जानी चाहिए।प्रशांत परिचारक के इस बयान ने हालांकि जब विरोधियो ने निशाना साधा फिर उसके बाद प्रशांत ने अपने सफाई में कहा कि मेरा ऐसा कोई इरादा नहीं था और मैं खेद जताता हूं।