धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाइन बन जाएगा इतिहास आखिरी बार चली ट्रेन

धनबाद। धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाइन बुधवार मध्यरात्रि से बंद हो जायेगी। इसके बाद 117 वर्ष पुराना कतरास स्टेशन इतिहास का हिस्सा बन जायेगा। बुधवार को अपने आखिरी सफर पर धनबाद – रांची पैसेंजर ट्रेन वाया कतरास होकर निकला।

इस दौरान कई लोग भावुक दिखे। इधर, क्षेत्र में आक्रोश के मद्देनजर यहां सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किये गये हैं। धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाइन बंद करने को लेकर फुलारीटांड़, कतरास थाना को छावनी में तब्दील कर दिया गया है और वहां सुरक्षा बलों की संख्या बढ़ा दी गयी है।

लोगों के आक्रोश को देखते हुए खुफिया रिपोर्ट के आधार पर कोयला मंत्री पीयूष गोयल का बुधवार का धनबाद दौरा पहले ही स्थगित कर दिया गया है। वहीं, डीसी-एसएसपी ने पहले ही चेतावनी दी है कि इस फैसले के बाद अव्यवस्था उत्पन्न करने वालों से कड़ाई से निपटा जायेगा।

इधर, धनबाद-चंद्रपुरा रेलवे लाइन बंद होने के बाद की स्थिति से निपटने के लिये उतरी छोटानागपुर के आईजी मुरारीलाल मीणा और रेल आईजी सुमन गुप्ता विशेष हेलिकॉप्टर से धनबाद के बरवाअड्डा स्थित हवाई-अड्डा पहुंचे। जहां उन्हें जिला पुलिस की ओर से गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।

इसके बाद धनबाद सर्किट हाउस में जिला प्रशासन और रेल पुलिस के साथ एक अहम बैठक हुयी। बैठक में धनबाद डीसी ए दोड्डे, डीआईजी प्रभात कुमार, एसएसपी मनोज रत्न चोथे, सिटी एसपी, ग्रामीण एसपी, रेल एसपी समेत तमाम आला अधिकारी मौजूद रहे। इसमें धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाईन बंद होने के बाद किसी प्रकार विधि-व्यवस्था ना बिगड़े, इसे लेकर सभी अधिकारियों को उचित दिशा-निर्देश दिया गया।

आईजी मुरारीलाल मीणा ने कहा कि यहां अधिकारी किसी प्रकार की स्थिति से निपटने के लिये सक्षम हैं। वहीं रेल आईजी सुमन गुप्ता ने धनबाद के लोगों से शांति बनाये रखने की अपील की।