फूल या प्रसाद नहीं बल्कि इस मंदिर में चढ़ती है चप्पलें…जानिए क्यों?

नई दिल्ली। अगर आप किसी मंदिर में दर्शन करने के लिए जाते है तो वहां पर आप भगवान को प्रसाद के साथ-साथ फूल और माला चढ़ाते है और उनसे सभी की खुशहाली की दुआ मांगते है। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे अजीबो-गरीब मंदिर के बारे में बताने जा रहे है जिसके बारे में जानकर शायद आपको हैरानी जरुर होगी।

कर्नाटक के गुलबर्ग में एक मंदिर है जिसका नाम लकम्मा देवी है जहां पर भक्त माता के मंदिर के बाहर बने पेड़ पर चप्पल चढाते हैं। ऐसा कहा जाता है पेड़ पर चप्पल टांगने का दिन हर साल दिवाली के छठें दिन से मनाया जाता है जिसे एक तरह के चप्पल फेस्टिवल के नाम से लोग पुकारते है।

लोगों का ऐसा विश्वास है कि उनकी चढा़ई गई चपप्ल मां पहनकर रात भर घूमती है जिससे कि चप्पल चढ़ाने वालों की सभी तकलीफें दूर हो जाती है। बताया जाता है कि यहां पर पहले बैलों की बलि दी जाती थी लेकिन सरकार की तरफ से रोक लगने के बाद यहां पर चप्पल चढ़ाने का रिवाज शुरु हो गया जो कि अब तक चला आ रहा है।