गांव, गरीब और किसानों के विकास का बजट : नित्यानंद

पटना। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय ने केन्द्रीय बजट को गांव, गरीब और किसानों के विकास का बजट बताते हुए कहा कि निकट भविष्य में इसके आशातीत परिणाम दिखने को मिलेंगे। राय ने गांव, गरीब और किसानों की बेहतरी के लिये किये गये प्रावधानों के लिये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व केन्द्रीय वित्त मंत्री अरूण जेटली को बधाई देते हुए बुधवार को कहा कि किसानों की आमदनी को पांच वर्ष में दोगुना करने, दस लाख करोड़ रुपये का कृषि कर्ज, फसल बीमा का कवरेज 30 से बढ़ाकर 40 प्रतिशत करने और कृषि विज्ञान केन्द्रों में लघु विज्ञान प्रयोगशालाओं के के फैसले से कृषि क्षेत्र में क्रांति और उत्पादन में वृद्धि सुनिश्चित है। उन्होंने कहा कि इससे किसानों का बड़ा तबका लाभान्वित होगा।

 

गरीबों के लिए रोजगार के नए आयाम

उन्होंने कहा कि मनरेगा का आवंटन बढ़ाकर 48 हजार करोड़ करने, गरीबों के लिये सुनिश्चित रोजगार योजना, वर्ष 2019 तक एक करोड़ परिवार को गरीबी रेखा से ऊपर लाने व एक करोड़ बेघरों को घर देने के निर्णय से गरीब, दबे व कुचले लोग लाभान्वित होंगे। राय ने चंपारण सत्याग्रह की स्वर्ण जयंती मनाने की घोषणा का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि बजट में स्किल इंडिया के लिये एक हजार कौशल विकास केन्द्रों के लक्ष्य से युवा पीढ़ी लाभान्वित होगी तथा बजट में महिला कल्याण की विविध योजना से महिलाओं को भी लाभ मिलेगा।

विकास के बुनियादी ढाचे

राय ने कहा कि बजट में गांव के विकास और बुनियादी ढांचे को प्राथमिकता दी गई है। ग्रामीण विकास की योजनाओं के लिये आवंटन में रिकार्ड 28 प्रतिशत वृद्धि के लक्ष्य से निश्चित रूप से गांव-देहात में विकास का रास्ता खुलेगा। उन्होंने कहा कि गांव में बिजली के लिये 4500 करोड़ रुपये, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के लिये 27 हजार करोड़ और दीनदयाल उपाध्याय ज्योति योजना के लिये 4814 करोड़ रुपये से गांवों का सर्वांगीण विकास सुनिश्चित है।