देव संस्कृति विश्वविद्यालय में इंस्पायर अवॉर्ड कार्यशाला

हरिद्वार। केंद्र सरकार के विज्ञान व प्रौद्योगिकी विभाग, राज्य की विज्ञान व प्रौद्यौगिकी परिषद (यूकॉस्ट) देहरादून तथा देव संस्कृति विश्वविद्यालय, हरिद्वार के संयुक्त तत्वावधान में इंस्पायर अवॉर्ड कार्यशाला हुई। विश्वविद्यालय परिसर में आयोजित कार्यशाला में पर्यावरण संबंधी चुनौतियों से निपटने के लिए विचार-विमर्श किया गया, जिसमें देश के जाने-माने पर्यावरणविदों ने हिस्सा लिया।

Dev

उद्घाटन समारोह के मुख्य अतिथि हेमवती नंदन बहुगुणा वि.वि. श्रीनगर के पूर्व कुलपति प्रो.एम.एस.एम.रावत ने कहा, “वायुमंडल को कार्बन डाईऑक्साइड जैसे खतरनाक तत्व नुकसान पहुंचा रहे हैं, जिनसे बचाव के लिए वैज्ञानिक पद्धति से ग्रीन हाउस की श्रंखला का निर्माण आज आवश्यक हो गया है। प्रो.रावत ने युवाओं से वर्तमान व भविष्य की समस्याओं का वैज्ञानिक समाधान खोजने का आह्वान किया।”

यूकॉस्ट की उत्तराखंड प्रभारी डॉ.कीर्ति जोशी भट्ट ने ‘रोल ऑफ इंस्पायर इन एन्हांसिंग साइंटिस्ट टेंप्रामेंट’ विषय पर गहन जानकारी प्रदान की। उन्होंने उत्तराखंड में 2011-16 तक इंस्पायर कार्यक्रमों में हुए नामांकन की स्थिति से भी अवगत कराया। डॉ.भट्ट ने शिक्षण संस्थानों में इंस्पायर कार्यक्रम संचालित करने पर जोर देते हुए विद्यार्थियों को इस दिशा में प्रोत्साहित करने की बात कही।

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) रुड़की के प्रो.जी.एस.रंधावा ने ‘मेकिंग ऑफ ए साइंटिस्ट’ विषय पर उपलब्ध जानकारियों को रेखांकित करते हुए विद्यार्थियों को दैनिक जीवन की विभिन्न समस्याओं का सरल समाधान भी बताया। बायोटेक्नोलॉजी व बायोकेमिस्ट्री, एसबीएस पीजीआई देहरादून के विभागाध्यक्ष डॉ.संजय गुप्ता ने ‘एडवांस मेट ऑफ लाइफ साइंसेज फॉर कैरियर अपॉचुर्निटिज’ की दिशा में छात्र-छात्राओं को विज्ञान विषय की ओर प्रवृत्त करने की जरूरत पर बल दिया।

इससे पहले कार्यशाला के संयोजक डॉ.प्रशांत सिंह तथा देसंविवि इकाई के एनएसएस के मुख्य समन्वयक डॉ.अरुणेश पराशर ने इंस्पायर कार्यशाला की जानकारी दी। कार्यशाला के अंत में यूकॉस्ट के आर.डी.घुनियाल ने धन्यवाद ज्ञापन दिया। इस आयोजन में हरिद्वार के 25 इंटर कॉलेजों के प्रधानाचार्यों, विज्ञान शिक्षकों सहित 128 विद्यार्थियों ने भाग लिया।

इस अवसर पर देसंविवि के डॉ.उमाकांत इंदौलिया, राष्ट्रीय सेवा योजना कार्यक्रम अधिकारी, डॉ.मोनिका पांडेय व अंजली भारद्वाज सहित अनेक गणमान्य नागरिक एवं विश्वविद्यालय परिवार उपस्थित रहा।