हल्दी और नींबू से दूर होगा डिप्रेशन

नई दिल्ली। डिप्रेशन एक ऐसी बीमारी है जिसमें इंसना दुखी महसूस करता है और हमेशा नेगेटिव सोचता है। यह एक मूड डिसऑर्डर भी है। इसकी वजह से इंसान हमेशा दुखी महसूस करते है।

ऐसे लोग जो डिप्रेशन का सामना कर रहे है उनके लिए हल्दी और नींबू काफी अच्छा होता है। जैसे-जैसे शरीश में तनाव आता है वैसे-वैसे चिंता, उदासी, दु:ख, गलती की भावना, थकान और गुस्सा आने की समस्या भी बड़ जाती है।

आज हम आपको डिप्रेशन को दूर करने के लिए एक घरेलू उपचार बताने वाले है, लेकिन इसका उपयोग करने से पहले आप अपने डॉक्टर से जरुर सलाह ले लें। और अगर आपको इन में से किसी पदार्थ से एलर्जी है तो उस पदार्थ का इस्तेमाल ना करें।

जरुरी सामग्री

इसके लिए आपको एक संतरे का रस, 4 चम्मच शहद, 2 नींबू, 4 कप पानी और 2 छोटे चम्मच हल्दी पाउडर की जरुरत होगी।

कैसे बनाएं और खाएं

सभी चीजो को मिला लें और 7 दिनों तक सुबह खाली पेट इसे खाएं और आपको खुद को ही 7 दिनों बाद आपकी स्थिति में अंतर दिखेगा।

कर्कुमिन

हल्दी के अंदर कर्कुमिन नाम का एक तत्व पाया जाता है जिससे हल्दी बाकी दवाइयों की तुलना में ज्यादा लाभ पंहुचाती है।

नसें

कर्कुमिन की सहायता से दिमाग के कुछ हिस्सों का विकास होता है। हल्दी से अल्जाइमर की बीमारी का खतरा भा कम होता है।

तनाव से लड़े

हल्दी के अंदर एंटीऑक्सीडेंट्स और एंटीइन्फ्लेमेटरी गुण मौजूद होते है। यह तनाव से लड़नें मे सहायता करते है और दिल की बीमारियों से बचाती है।

खतरे

बाइल डक्ट की बीमारी से ग्रसित लोग और जिन लोगों को पथरी होती है वो हल्दी का सेवन ना करें। गर्भवती महिलाओं को भी हल्दी का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से पूछ लेना चाहिए।