एक बार फिर नोटबंदी का झटका दे सकती है सरकार, ये हैं संकेत

नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद नए 2000 हजार के नोटों को लेकर अटकले लगाई जा रही हैं कि सरकार बहुत जल्द 2000 के नोट को बंद कर सकती है। बड़ी संख्या में लोगों का यही कहना है कि सरकार 2000 के नोट बहुत जल्द बद करने वाली है। लोगों की कहना है कि एक बार फिर सरकार चुपचाप नोटबंदी कर सकती है। अभी तक ये चर्चा सिर्फ लोगों के बीच थी लेकिन अब ये चर्चा संसद तक भी पहुंच गई है। विपक्षी दलों ने इस पर वित्त मंत्री अरूण जेटली से स्पष्टीकरण देने को कहा है। लेकिन अरूण जेटली इस पर चुप्पी ही साधे रहे। पिछले कई सप्ताह से 2000 के नोटों में कमी देखी गई है। जिसको लेकर माना जा रहा है कि इसकी बड़ी वजह जमाखोरी है। नकदी के रूप में काले धन को 2000 के नोटों में जम कराना काफी आसान है जबकि छोटे नोटों में ऐसा करना काफी कठिन है।

demonetisation, currency, ban, rbi, Government, Parliament, Arun Jaitley
currency ban

बता दें कि इसके अलावा अधिकतर लोगों का मानना है कि 2,000 रुपये का नोट लेकर मार्केट में जाने पर खुल्ले की समस्या से जूझना पड़ता है। भारतीय रिजर्व बैंक की ओर से 2,000 रुपये के नोटों की छपाई कम कर दी गई है। माना जा रहा है कि सरकार इन नोटों की सप्लाइ को सीमित करने की योजना पर काम कर रही है। पिछले साल नवंबर में 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों को बंद किए जाने के बाद आरबीआई ने 2,000 रुपये के नोटों की छपाई तेजी से की थी। लेकिन, अब शायद इन नोटों की संख्या ऐसे स्तर पर पहुंच गई है, जिससे केंद्रीय बैंक असहज है। शायद इसी वजह से इन बड़े नोटों की छपाई को कम करने की रणनीति बन रही है और कम कीमत वाले नोटों की संख्या बढ़ाने की कोशिश की जा रही है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक रिजर्व बैंक ने 2,000 रुपये के नोटों की छपाई बंद कर दी है और मौजूदा वित्त वर्ष में नए नोट नहीं लाए जाएंगे। इसी के चलते अब अफवाहें हैं कि सरकार 200 रुपये के नए नोटों को लॉन्च करने वाली है। कहा जा रहा है कि सरकार 200 और 500 रुपये के नोटों की संख्या बढ़ने के बाद सरकार 2,000 रुपये के नोटों को बैन कर सकती है। इससे आम आदमी पर बहुत ज्यादा असर नहीं होगा। इस बैन से सरकार 2,000 रुपये के नोटों को एकत्र करने वाले लोगों पर प्रहार करेगी।