कस्टम, एक्साइज और सर्विस टैक्स कलेक्शन में हुई 16.9 फीसदी की बढ़ोतरी

नई दिल्ली। जनवरी महीने में सेंट्रल एक्साइज़, सर्विस टैक्स, कस्टम कर संग्रहण में 16.9 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। इस दौरान अप्रत्यक्ष कर संग्रहण 7.03 लाख करोड़ रुपये रहा। इतना ही नहीं इस वित्तीय वर्ष के कर संग्रहण अनुमान का 82 फीसदी संग्रहण किया जा चुका है।

वित्त मंत्रालय ने बताया कि जनवरी, 2017 में पिछले साल की जनवरी के मुकाबले कस्टम कर संग्रहण में 10.1 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। वहीं सेंट्रल एक्साइज में 26.3 फीसदी की बढ़त दर्ज की गई। इसी तरह सर्विस टैक्स भी 9.4 फीसदी ज्यादा संग्रहित किया गया। इस वित्तीय वर्ष में जनवरी, 2017 तक कुल कर संग्रहण 7.03 लाख करोड़ रुपये रहा, जो पिछले वित्तीय वर्ष में समान अवधि (अप्रैल, 2016 – जनवरी, 2017) से 23.9% ज्यादा रहा। इतना ही नहीं वित्तीय वर्ष 2016-17 के कर संग्रहण अनुमान का 82.8 फीसदी संग्रहण हो चुका है।

इसी तरह सेंट्रल एक्साइज कर संग्रहण में सरकार ने इस वित्तीय वर्ष के पहले 10 महीने में जनवरी, 2017 तक 3.13 लाख करोड़ रुपये जमा करने में सफलता पाई है, जो पिछले वित्तीय वर्ष की समान अवधि के टैक्स कलेक्शन से 40.5 फीसदी ज्यादा है। सर्विस टैक्स संग्रहण इस समयावधि में 2.03 लाख करोड़ रुपये रहा, वहीं पिछले वित्तीय वर्ष में ये सिर्फ 1.66 लाख करोड़ रुपये था। इस तरह सर्विस टैक्स कलेक्शन में 22 फीसदी की बढ़ोतरी हुई। वहीं कस्टम कर संग्रहण 1.86 लाख करोड़ रुपये के स्तर पर पहुंच गया, जो पिछले वित्तीय वर्ष की समान समयावधि में 1.77 लाख करोड़ रुपये था। इस तरह सरकार ने कस्टम कर संग्रहण में भी 4.7 फीसदी की बढ़त हासिल की।