राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस लड़ेगी विधानसभा चुनाव

जयपुर। 5 राज्यों में विधानसभा चुनावों में शिकस्त पा चुकी कांग्रेस अब गुजरात और राजस्थान के जरिए सत्ता के ग्लियारों में वापसी करना चाहती है। पिछले तीन सालों के दौरान प्रदेश में गुटबाजी और अस्तित्व के संघर्ष से जूझ रही कांग्रेस में नई जान फूंकने के लिए राजस्थान कांग्रेस के नए प्रभारी और अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव अविनाश पांडे ने दो टूक शब्दों में कहा कि कांग्रेस अगले साल होने वाला राजस्थान विधानसभा का चुनाव राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में लड़ेगी।

उन्होंने कहा कि परस्पर मतभेद भुलाकर संगठन की एकता के लिए काम करने का वक्त है। पदभार संभालने के बाद पहली बार जयपुर आए पांडे ने रविवार को राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी की कार्यकारिणी व पदाधिकारियों, विधायकों तथा जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्षों की प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में आयोजित संयुक्त बैठक को भी संबोधित किया। बैठक की अध्यक्षता प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सचिन पायलट ने की। बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के अलावा एआसीसी के महासचिव सी.पी जोशी और मोहन प्रकाश समेत प्रदेश इकाई के पदाधिकारी एवं अन्य वरिष्ठ नेता मौजूद थे।

बैठक में पाण्डे ने पदाधिकारियों से राजस्थान के बारे में फीडबैक लिया और अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए संभावित मुद्दों पर चर्चा की। इस दौरान उन्होंने यह संगठन की एकता को लेकर नसीहतें भी दी। उन्होंने कहा कि संगठन की एकता को तोड़ने के प्रयास पार्टी बर्दाश्त नहीं करेगी। उन्होंने कहा कि राजस्थान में जिस उत्साह व जोश के साथ कांग्रेसजनों ने मेरा स्वागत किया है वह संगठन की जिम्मेदारी की चुनौती को वहन करने का अहसास करा रहा है। उन्होंने कहा कि कार्यकर्ताओं का जोश देखकर प्रदेश कांग्रेस के संगठन की मजबूती का आभास हो गया है। हम सभी का दायित्व है कि कार्यकर्ताओं के सम्मान के साथ ही उनके विचारों को समझकर उन्हें मजबूत करने के लिए तत्परता के साथ काम करें। हमारी एकजुटता का संदेश आगामी विधानसभा चुनाव में जीत का आधार है।

कांग्रेस ने हमेशा सिद्धान्तों की राजनीति की है और कभी भी अपने मूल्यों और विचारधारा से समझौता नहीं किया है, देश के सामने आज बड़ी चुनौतियां है जिनका सामना करने के लिए हम सबको सहयोगात्मक रूप से एक.दूसरे का साथ देकर मिलजुल कर काम करना है। उन्होंने कहा कि प्रदेश कांग्रेस के अग्रिम संगठनों, प्रकोष्ठ एवं विभागों को आगामी समय में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन करना है तथा कांग्रेस के सभी नेताओं को जनसम्पर्क पर जोर देना है। संगठन में आपसी समन्वय कर मजबूती के साथ ब्लॉक व बूथ स्तर पर कांग्रेस पार्टी की आवाज को बुलन्द करना है। उन्होंने कहा कि वर्तमान दौर में सत्ता की दोगली नीतियों के कारण देश में असमंजस्ता व्याप्त है। भाजपा सरकार के दबाव में प्रशासन एकतरफा काम कर रहा है। देश में बढ़ी इस अराजकता से मुक्ति का सिर्फ एक ही रास्ता है कि हम सब संगठनात्मक ताकत से फासीवादी शक्तियों को परास्त करें।

राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सचिन पायलट ने कहा कि कांग्रेस गांधीवादी विचारधारा वाली पार्टी है जो बदलती परिस्थितियों में सकारात्मकता के साथ चुनौतियों का सामना कर रही है। हमारे मूल्यों में नकारात्मक प्रचार का कोई स्थान नहीं है। उन्होंने कहा कि आज की बैठक में जितने भी वरिष्ठ नेताओं के सुझाव प्राप्त हुए है उनका संगठन की नीतियों में समावेश कर संगठन के भविष्य के सभी कार्यक्रमों व रणनीति को अंजाम दिया जाएगा। हम सत्ता में बैठे लोगों के जनविरोधी कामों का जवाब सभ्यता के साथ देंगे। हमने गत् तीन वर्षों में लगातार भाजपा की जनविरोधी नीतियों का जवाब सडक़ पर उतरकर दिया है, जनहित में पुलिस की लाठियां भी खाई है और गिरफ्तार होने से भी पीछे नहीं हटे।

भाजपा शासन करने के स्थान पर सिर्फ जनता को गुमराह कर रही है उसका उद्देश्य इतिहास को परिवर्तित करने का है जिसका हमने विरोध किया और नेहरू जी के नाम को पाठ्यपुस्तकों से हटाने के भाजपा सरकार के मंसूबों को पूरा नहीं होने दिया। भाजपा ने प्रदेश में 300 से ज्यादा मंदिर तोड़ दिए। राजधानी की हिंगोनिया गौशाला में हजारों गायें मर गई और गौ हत्या के नाम पर निर्दोष को मौत के घाट उतार दिया गया। केन्द्र व राज्य में भाजपा की सरकार हैए परन्तु दुर्भाग्य है कि आंतरिक व बाहृय सुरक्षा के मोर्चे पर सरकार पूरी तरह विफल रही है। उन्होंने कहा कि आतंकवाद व नक्सलवाद को काबू करने के लिए सरकार ने कोई कदम नहीं उठाये, सीमा पर फौजी मर रहे हैं और नक्सलवाद के कारण देश में अद्र्ध सुरक्षा बल के जवान मारे जा रहे हैं, कश्मीर में अलगाववाद चरम पर है, भाजपा के राज में देश की सुरक्षा के साथ समझौता हुआ है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने इन सभी जनविरोधी सरकारी हथकण्डों का मुंहतोड़ जवाब देकर भाजपा को कठघरे में खड़ा किया है। उन्होंने कहा कि राहुल गाँधी का संदेश है कि सभी कार्यकर्ताओं को सम्मान मिले जिसका हमें अक्षरशरू पालन करना है। उन्होंने राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व प्रभारी गुरूदास कामत एवं सह प्रभारी मिर्जा इरशाद बेग के संगठन को मजबूती देने में किए गए सहयोग व प्रयासों के लिए उनके प्रति आभार व्यक्त किया।

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव एवं पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि इतिहास में पहली बार देखने को मिल रहा है कि जनता में घोर निराशा घर कर गई है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की किसी से कोई दुश्मनी नहीं है सिर्फ विचारधारा का अंतर है। उन्होंने कहा कि स्व. राजीव गाधी ने आईटी क्रांति का आगाज किया था तब यही भाजपा इसका पुरजोर तरीके से विरोध कर रही थी और आज उसी का उपयोग कर भाजपा के लोग कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी के खिलाफ षड्यंत्र रच रहे है। हम सभी को मिलजुल कर भाजपा की नकारात्मक सोच का मुंहतोड़ जवाब देना है।

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव डॉ. सी. पी. जोशी ने आगामी चुनावों में परम्परागत तरीकों के साथ सोश्यल मीडिया के उपयोग पर जोर डालते हुए कहा कि हमें अपने काम करने के तरीकों में बदलाव कर बदलती परिस्थितियों के अनुसार अपने आप को चुनौतियों के लिए तैयार करना है। उन्होंने कहा कि सोश्यल मीडिया में आयी क्रांति को पार्टी हित में उपयोग कर पार्टी विचारधारा को जन जन तक पहुंचाना है।

इस अवसर पर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव मोहन प्रकाश ने कहा कि आजादी के बाद सबसे बड़ी उपलब्धि देश को आत्मनिर्भरता प्रदान करना रही है जो कांग्रेस की देन है। कांग्रेस पार्टी ने जनता के लिए जो भी किया है निस्वार्थ भाव से किया है वहीं भाजपा जनता को गुमराह कर अपने स्वार्थ सिद्ध कर रही है। जातिगत राजनीति के आधार पर देश में माहौल खराब किया जा रहा है।
नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी ने बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा कि भाजपा सरकार ने जितने भी वादे किये थे उस पर खरी नहीं उतरी, प्रदेश में बेरोजगारी, महिला उत्पीडऩ व भ्रष्टाचार चरम पर है, हमने विधानसभा में और प्रदेश कांग्रेस संगठन ने सडक़ों पर उतरकर भाजपा की जनविरोधी नीतियों का पुरजोर तरीके से जवाब दिया है।