वीरभद्र सिंह के बेटे को मिला कांग्रेस से टिकट, वंशवाद से नहीं उभर पाई कांग्रेस ?

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर रण तैयार हो चुका है। कांग्रेस की तरफ से टिकटों का भी बंटवारा किया जा चुका है। हिमाचल में 9 नवंबर को चुनाव होने वाला है। आखिरकार कांग्रेस की तरफ से सीएम वीरभद्र सिंह के बेटे विक्रमादित्य को टिकट मिल गया है। विक्रमादित्य को शिमला ग्रामीण सीट से टिकट दे दिया है।

इस सीट से खुद सीएम वीरभद्र सिंह चुनाव लड़ते थे। वही अब सीएम इस सीट के बजाए अर्की सीट से चुनाव लड़ने वाले हैं। कांग्रेस ने इसके अलावा सात अन्य सीटों के लिए उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। पार्टी ने एक सीट पर उम्मीदवार को बदल दिया है। चंपा ठाकुर का नाम मंडी सीट से दर्ज किया गया है। वही चुनाव के लिए नामांकन करने की तारीख 23 अक्टूबर कि है। जिसके बाद 24 अक्टूबर को नामांकन की जांच की जानी है जबकि 26 अक्टूबर को तक नामांकन वापिस लिया जा सकता है।

आपको बता दें कि वंशवाद के मुद्दे पर कांग्रेस को आए दिन घेरा जाता है। ऐसे में अन्य पार्टियों को एक बार फिर से मुद्दा मिल गया है कि वह कांग्रेस पर निशाना साध सके। ऐसा इसलिए है क्योंकि सीएम वीरभद्र सिंह के बेटे विक्रमादित्य को उसी सीट से पार्टी ने टिकट दिया जिसमें वह खुद चुनाव लड़ा करते थे। इससे साफ हो जाता है कि वंशवाद से कांग्रेस अभी तक नहीं उभर पाई है। जिसके बाद अब पार्टी ने सीएम के आगे घुटने टेक दिए हैं।