CM त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने खटीमा में किया 70 करोड 51 लाख की योजनाओं का शिलान्यास

देहरादून। सूबे में विकास की परियोजनाओं को लेकर लगातार मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत योजनाओं और परियोजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण करते जा रहें। उन लक्ष्य है कि 2019 के पहले सूबे में बदहाल विकास की आधार भूत स्थितियों को सही किया जा सके। इसी क्रम में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने खटीमा में 70 करोड 51 लाख की योजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास किया। जिसके अन्तर्गत 20 करोड 71 लाख की 10 योजनाओ का लोकार्पण व 49 करोड 80 लाख की 25 योजनाओ का शिलान्यास शामिल है। इस मौके पर खटीमा नागरिक चिकित्सालय का शुभारम्भ भी किया गया जो 14 करोड 19 लाख 49 हजार की लागत से बनाया गया है।

इस कार्यक्रम में भाग लेते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने एक जनसभा को भी सम्बोधित किया। उन्होने अपने सम्बोधन में कहा कि सूबे में बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं को प्रदान करने के लिए हमारी सरकार लगातार प्रयास कर रही है । इसके लिए सूबे में कई जगहों पर डॉक्टरों की नियुक्ति का काम भी किया जा रहा है। हम शीघ्र ही स्वास्थय सेवाओं में वृहद स्तर पर बड़ी योजनाओं को लेकर आने वाले हैं। प्रदेश मे डाक्टरों की नियुक्ति हेतु विज्ञप्तियां जारी की जा चुकी हैं जिसके अन्तर्गत 02 हजार डाक्टरों द्वारा आवेदन किये गये हैं। साथ ही चिकित्सा के क्षेत्र मे टैलीमेडिसिन व टैली रेडियोलॉजी उत्तराखण्ड मे भी लागू की जा रही है।

इसके साथ ही किसानों की हितों और उनके लिए किए जा रहे कामों का भी सीएम त्रिवेन्द्र सिंह ने जिक्र करते हुए कहा कि किसानो के हितो को देखते हुए शुगर मिलो को पीपीपी मोड पर दिया जा रहा है। पीपीपी मोड पर चीनी मिलो को देने से जहां चीनी मिलो का आधुनिकीकरण होगा वही रोजगार के अवसर बढेंगे। उन्होने प्रदेश मे बढ रही हडतालो पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि इस प्रदेश को हडतालमुक्त प्रदेश बनाया जायेगा, प्रदेश मे न्यायपूर्ण तरीके से सरकार चलाई जायेगी। उन्होने कहा प्रदेश सरकार लघु व सीमांत कृषको के लिए 02 प्रतिशत की ब्याज दर से 01 लाख का ऋण उपलब्ध करा रही है।

कार्यक्रम मे विधायक प्रेम सिह राणा, जिलाधिकारी डा0 नीरज खैरवाल, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डा0 सदानन्द दाते, सीडीओ आलोक कुमार पाण्डेय, निदेशक चिकित्सा स्वास्थ आरके पाण्डे, सीएमओ डा0 संजय कुमार शाह उपस्थित थे। इस अवसर पर विभिन्न विभागो द्वारा सरकार की योजनाओ के प्रचारप्रसार हेतु अपने स्टाल लगाये थे।