शहर के आवारा कुत्ते बने चौकी के रखवाले, चौकी प्रभारी सहित अन्य पुलिसकर्मी भी रहे गायब

मेरठ। डीजीपी के आदेशों के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस एक्टिव नजर तो आने लगी। लेकिन अभी भी कुछ पुलिस कर्मी वही पुरानी सरकार वाला रवैया अपनाए हुए है। ताजा मामला मेरठ थाना सिविल लाइन के साकेत स्थित पुलिस चौकी का है। यहां रात के 7 बजकर 47 मिनट पर ही पुलिस चौकी में जनता के रक्षकों की जगह शहर के आवारा कुत्ते नजर आने लगे, न कोई चौकी के अंदर है और न ही बाहर भगवान भरोसे चल रही इस चौकी पर अगर कोई फरियादी आए भी तो अपनी पीड़ा किस को सुनाए। क्या वहां सोए हुए आवारा कुत्ते को…? जब कि अभी तक तो ढ़ग से रात भी नही हुई थी। ये क्षेत्र बेहद रिहायशी है तथा यहां से लडकियां ट्यूशन खत्म करके घर जाती है। आए दिन चौकी की इसी रोड पर महिलाओं के साथ चेन इस्नेचिंग के तमाम मामले सुनने को मिलते हैं, चौकी के कुछ ही दूरी पर मैन रोड भी लिंक हो रही है।

City stray, dogs, became, checkpoint, guards,missing, policemen, including, post-incharge,
checkpoint guards

वेस्ट यूपी में आए दिन पुलिस अपनी किसी न किसी एक्टिविटी से सुर्खियों मे बनी रहती है, साथ जनता को गंभीर सवाल उठाने का मौका देती रहती है। अगर बात करें जनपद मेरठ की तो हाल ही में सदर थाना क्षेत्र में एक फर्जी एनकाउंटर मामले की पोल खुली है, पहले तो पुलिस ने फर्जी एनकाउंटर की फर्जी कहानी लिखी, लेकिन सीसीटीवी वीडियो ने पुलिस का कहानी का सारा भंडाफोड़ कर दिया और सारी सच्चाई मीडिया,जनता तथा सरकार के सामने आ ही गई। इसके अलावा ताजा मामला कल का ही है, एनसीपी सहित 3 पुलिस कर्मी एसएसपी मेरठ ने तत्काल प्रभाव से स्पेंड किए हैं। ये पुलिस कर्मी मेरठ से दिल्ली एम्स अस्पताल में एक कैदी का इलाज कराने के लिए जा रहे थे। लेकिन कानून को ताक पर रख नोएडा के एक होटल में रूम बुक किया और कैदी के साथ शराब पीते व अय्याशियां करते नजर आए हैं, जिसका वीडियो भी वायरल हुआ तो
एसएसपी ने इन पुलिसकर्मीयों पर कार्रवाई करते हुए सस्पेंड कर दिया है।

एक और मामला अभी अटका हुआ है, न जाने कब RI सत्यप्रकाश शर्मा इस कि चपेट में आ जाएं। आरआई सत्यप्रकाश पर ट्रेनी महिला सिपाही के साथ छेड़छाड़ का आरोप लगा हुआ है। फिलहाल मालमे की जांच एसपी क्राइम कर रहे हैं। ऐसे में सवाल ये उठता है कि क्या इन पुलिसकर्मियों का ये ही रवैया रहेगा या भिर जनता को कब तक अपनी सुरक्षा को लेकर टेंशन फ्री होना पड़ेगा। काफी दबंग और आयरन लेडी कहे जाने वाली मेरठ एसएसपी मंजिल सैनी के आए दिन थाने व चौकियों के निरिक्षणों का भी इन पुलिस वालों पर शायद ही कोई असर हुआ हो। जनता की रखवाली करने का दम भरने वाली पुलिस अपने चेकपोस्ट से ही गायब मिलती है। ऐसे में बढ़ते अपराधों पर पुलिस केसे अंकुश लगाने में कामयाब होगी, ये तो सिस्टम ही बता सकता है या पुलिस के आला उच्च अधिकारी।

जहां आयरन लेडी के नाम से मशहूर मेरठ की एसएसपी मंजिल सैनी मेरठ पुलिस को रोज़ नए-नए सबक सिखाती है और जनता की समिस्याओं का निस्तारण चाहती है, वहीं पुलिस की चौकियों की रखवाली आवारा कुत्ते करते नजर आते हैं।