चिली के नाम कोपा अमेरिका के 100वें संस्करण का खिताब

ईस्ट रदरफोर्ड (न्यूजर्सी)। चिली ने रविवार रात मेटलाइफ स्टेडियम में कोपा अमेरिका के सौवें संस्करण के खिताबी मुकाबले में अर्जेटीना को एक बार फिर मात देते हुए जीत हासिल की। रोमांचक बात यह रही कि चिली ने अर्जेटीना को लगातार दूसरी बार पेनल्टी शूटआउट में हराकर खिताब हासिल किया।

Copa

टूर्नामेंट का खिताबी मुकाबला दोनों टीमों के बीच काफी रोमांचक रहा। पहले हाफ में दोनों पक्षों की ओर से एक भी गोल नहीं दागा गया। इस बीच, अर्जेटीना के खिलाड़ी मार्कोस रोजो और चिली के खिलाड़ी मार्सेलो डियाज को लाल कार्ड मिला। दूसरे हाफ में भी चिली और अर्जेटीना के बीच गोल दागने का संघर्ष चलता रहा, फिर भी कोई परिणाम नहीं निकला।

खिताब हासिल करने के लिए आतुर अर्जेटीना और चिली को परिणाम हासिल करने के लिए मुकाबले के तय समय (90 मिनट) के अलावा 30 मिनट का अतिरिक्त समय भी दिया गया। इसके बावजूद कोई निष्कर्ष नहीं निकला।

अंत में यह मुकाबले पेनल्टी शूटआउट पर पहुंचा। दोनों ही टीमों को पांच-पांच बार पेनल्टी शूटआउट का मौका मिला। पेनल्टी शूटआउट की शुरुआत चिली से हुई। टीम की ओर से गोल दागने आए आर्तुरो विडाल के शॉट को अर्जेटीना के गोलकीपर सर्गियो रोमेरो ने काफी बेहतरीन तरीके से रोकते हुए लक्ष्य तक नहीं पहुंचने दिया।

जीत की आशा लिए अर्जेंटीना की ओर से टीम के स्टार खिलाड़ी लियोनेल मेसी पहले गोल दागने आए। सभी आश्वस्त थे कि मेसी गोल दागने में कामयाब रहेंगे, लेकिन इसके उलट सभी को चौंकाते हुए बार्सिलोना के दिग्गज गोल दागने में चूक गए। इसके बाद चिली की ओर से किए गए बाकी चार गोल सफल रूप से लक्ष्य तक पहुंचे। टीम के लिए चार गोल निकोलस कैस्टिलो, चार्ल्स एरेनगुइज, जीन बॉसेजोर और फ्रांसिस्को सिल्वो ने किए।

अर्जेटीना के लिए जेवियर मासचेरानो, सर्गियो अगुएरो ने सफल गोल दागा, जबकि मेसी और लुकास बिगलिया गोल दागने में चूक गए, जिसके कारण टीम को एक बार फिर फाइनल मुकाबले में चिली से हार का सामना करना पड़ा।
मेसी और अर्जेटीना दोनों के लिए यह काफी निराशाजनक बात है, क्योंकि उन्हें लगातार तीन साल में तीसरी बार बड़े टूर्नामेंटों के फाइनल मुकाबलों में हार झेलनी पड़ी है।

अर्जेटीना को 2014 विश्व कप के फाइनल मुकाबले में जर्मनी और कोपा अमेरिका के दोनों फाइनल मुकाबलों में चिली से हार का सामना करना पड़ा। टीम ने पिछली बार 1993 में कोपा अमेरिका खिताब जीता था।

टूर्नामेंट में 23 साल के सूखे को खत्म करने आई अर्जेटीना की टीम को इस बार भी खाली हाथ लौटना पड़ा और सबसे हैरान करने वाली बात यह रही कि स्टार खिलाड़ी लियोनेल मेसी ने अंतर्राष्ट्रीय फुटबाल से संन्यास ले लिया है।

(आईएएनएस)