बाल विवाह और दहेज प्रथा के खिलाफ अभियान छेड़ेंगे मुख्यमंत्री नीतीश

पटना। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शराबबंदी को मिले जनसमर्थन के बाद नशामुक्ति के साथ प्रदेश में बाल वि​वाह और दहेज प्रथा जैसे महत्वपूर्ण सामाजिक मुददे के भी खिलाफ अभियान छेड़ने की तैयारी कर दी है। राज्य सरकार का समाज कल्याण,स्वास्थ्य,शिक्षा और ग्रामीण विकास विभागों को अभियान में सहभागी बनाया जाएगा।

शुक्रवार को समाज कल्याण विभाग की समीक्षा की बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने समाज कल्याण विभाग से जुड़े अलग-अलग मुद्दों पर विस्तार से बात की।बैठक में प्रधान सचिव समाज कल्याण वंदना किनी ने समाज कल्याण विभाग के द्वारा बनाई गई विभिन्न योजनाओं से जुड़ी जानकारी और पावर प्वाईंट प्रेजेंटेशन के जरिए मुख्यमंत्री के सामने रखी।

इस बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि समाज में आधा बीमारी की जड़ में बाल विवाह है। उन्होंने महिला सशक्तिकरण के लिए राज्य प्रशासन को कार्य योजना तैयार करने का निर्देश दिया है। उन्होंने प्रशासन को महिला सशक्तिकरण के लिए संचालित योजनाओं की भौतिक और उपलब्धियों का भी हिसाब किताब पेश करने का भी निर्देश दिया है।

बैठक में सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना की विस्तृत रूप में समीक्षा की गई। पेंशन योजनाओं में वित्तीय लेन-देन पर भी काफी देर तक बात हुई। इसके बाद आईसीडीएस द्वारा चलाई जा रही योजनाओं की भी विस्तृत चर्चा की गयी। महिला विकास निगम की प्रबंध निदेशक एन विजयलक्ष्मी द्वारा महिला विकास निगम के कार्यों से संबंधित पावर प्वाईंट प्रेजेंटेशन दिया गया। इस बैठक में समाज कल्याण मंत्री कुमारी मंजू वर्मा, विकास आयुक्त शिशिर कुमार सिन्हा,
मुख्यमंत्री के सचिव अतीश चन्द्रा, मुख्यमंत्री के सचिव मनीष कुमार वर्मा सहित अन्य वरीय अधिकारी उपस्थित थे।