सरकारी नौकरी के नाम पर की गई 56 लाख की ठगी

बुलंदशहर। समाजवादी सरकार के दौरान सपा के ही एक कथित पदाधिकारी द्वारा अपने आप को शिवपाल यादव और एसआरएस यादव का रिश्तेदार बताकर बेरोजगार युवकों को नौकरी दिलाने के लिए 56 लाख रुपए ठगी किए जाने का मामला प्रकाश मे आया है। लन्दशहर की रहने वाली महिला रीता आर्या ने पुलिस अधीक्षक को शिकायती पत्र देकर आरोप लगाया है कि वे खुद समाजवादी पार्टी मे महिला प्रकोष्ठ की प्रदेश सचिव हैं। महिला महिला ने पुलिस अधीक्षक को शिकायती पत्र देकर आरोप लगाया है कि उन्हीं के समकक्ष सपा युवजन सभा के प्रदेश सचिव अशोककुमार यादव ने उनके माध्यम से 35 युवकों से विभिन्न सरकारी विभागों में नौकरी दिलाने के लिए 56 लाख रुपए पेशगी के तौर पर लिए थे।

अभी तक किसी को नहीं मिली नौकरी
भी तक न तो किसी युवक को नौकरी मिली और न ही रुपए वापस हुए हैं। जिसके बाद रुपए वापस लेने के लिए अशोक से संपर्क करने का प्रयास किया गया तो उनका मोबाइल स्विच ऑफ जा रहा है। जिसके बाद अशोक को ढूंढने के लिए जब उनके गांव पहुंचा गया तो पता चला कि वह अपने गांव से ही गायब है। कार्रवाई करने पर पता चला कि वह जिला मुख्यालय के मोहल्ला सिविल लाइन से भी अपना घर बेंचकर महीनों से फरार है। फिलहाल पुलिस आगे की कार्रवाई में जुट गई है।