आईएस के फांसी वाले वीडियो में दिखे ब्रिटिश लड़के की पहचान हुई

लंदन। इस्लामिक स्टेट (आईएस) के कुर्दो के फांसी पर लटकाए जाने वाले एक वीडियो में पांच लड़कों में से एक को उसके ब्रिटेनवासी पिता ने 13 साल के जोजो के रूप में पहचान की है। ‘आरटी ऑनलाइन’ के अनुसार, पिता का दावा है कि लड़के की मां सैली जोंस दुनिया के सबसे वांछित आतंकियों में से थी।

isis

सुरक्षा कारणों से आदमी के नाम का खुलासा नहीं किया गया। उसने कहा कि वह अपने बेटे को इस्लामिक स्टेट के वीडियो में देखकर कर हैरत में है। केंट में वह और सैली जोंस (47) जोजो की पैदा होने के तुरंत बाद साल 2004 में अलग हो गए थे। जोंस के पहले से भी दो बच्चे थे। सैली जोंस ने इस्लाम कुबूल करने के बाद कंप्यूटर हैकर जुनैद हुसैन से निकाह कर लिया और दस साल के जोजो के साथ साल 2013 में सीरिया चली गई। ‘मेल’ की रविवार को दी गई सूचना के मुताबिक, यह माना जा रहा है कि उसके पति की बीते साल ड्रोन हमले में मौत हो गई।

शनिवार को जारी किए गए वीडियो में नारंगी रंग के जंपशूट पहने कुर्दिश बंधकों की पंक्ति में सेना की वर्दी में एक ही उम्र के पांच लड़के खड़े हैं। माना जा रहा है कि वीडियो फुटेज में दिखाया गया लड़का अब्दुल्लाह अल-ब्रितानी (ब्रिटेन) जोजो है और दूसरे लड़के ट्यूनेशिया, मिस्र, तुर्की और उजबेकिस्तान से हैं। लड़के के पिता ने एक साक्षात्कार में कहा, “वह एक सामान्य लड़के की अपेक्षा प्रतिभावान है। वह पार्क में जाने पर हमेशा कीटों के पीछे भागता था.. यह घृणित है कि उसका दिमाग भ्रमित कर दिया गया।”