उत्तराखंड में पर्यटन को बढ़ावा देंगे बोइंग-57 और एयरबेस 308 : महाराज

देहारादून। उत्तराखंड में पलायन को रोकने के लिए सूबे की त्रिवेंद्र रावत सरकार पर्यटन को बढ़ाने के लिए कृतसंक्लप है। सरकार का मानाना है कि देवभूमि उत्तराखंड से  पलायन कर रहे लोगों को रोकने के लिए राज्य में पर्यटन को बढ़ावा दिया जाए, ताकि उत्तराखंडवासियों को उनके गृह राज्य में ही रोजगार का अवसर प्राप्त हो सके और वो उत्तराखंड के विकास में एक अहम भूमिका निभा सके। इसी कड़ी में प्रदेश के लघु उद्योग एवं पर्यटक मंत्री सतपाल महाराज ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए पर्यटक को बढ़ावा देने के लिए मंत्रालय द्वारा उठाए जा रहे कदमों के बारे में बताया।

पर्यटक मंत्री ने बताया कि राज्य में पर्यटन के क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए सरकार एक कार्यक्रम का आयोजन करेगी, जिसके जरिए आने वाले समय में ड्रीम लाइनर बोइंग-57 और एयरबेस 308 चलने वाले है। उन्होंने कहा कि ऐसे बढ़े जहाजों के लिए पहले हमारे पास क्षमता होनी चाहिए क्योंकि इन्ही के कराण लोग हिमालय या यूं कहें की ओली की तरफ जाएंगे। उन्होंने कहा कि इसके जरिए हमारे राज्य में जो पर्यटक स्थल हैं, चार धाम की यात्रा है वहां पर जाना जब हवाई सफर से संभव हो जाएगा तो लोग अपने आप उत्तराखंड में पर्यटक के तौर पर आएंगे। उन्होंने कहा कि अभी हमारी कैपिसिटी सीमीत है और अड्डों पर 22 जहाज उतर रहे हैं, लेकिन हम इसे और आगे बढ़ाने के लिए कृतसंक्लप है ताकि यहां पर अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट भी बन सके।

ओली में होने वाले प्रसंग को लेकर सतपाल महाराज ने कहा कि इसके लिए हमने पूरी तैयारी कर ली है, हालांकि इस समय  हमारा मौसम साथ नहीं दे रहा है इसलिए हम उसके समय को थोड़ा पीछा करेंगे, ताकि जब बर्फबारी हो हमारे ये प्रसंग ज्यादा से ज्यादा लोकप्रिय हो क्योंकि हम अपने पहाड़ को विंटर डेस्टीनेशन बनाने का कार्य कर रहे हैं। सीएम के ओली भ्रमण को लेकर उन्होंने कहा कि क्रिसमस और नए साल के अवसर पर जब सीएम वहां गए थे तो वहां करीब 7000 हजार के आस-पास लोग एकत्रित हुए थे, जोकि पैसे खर्च करने वाला पर्यटक है। इसी के तहत हम ये प्रसंग कर रहे है, ताकि लोग यहां विंटर सेशन में भी बर्फबारी का मजा लेने के लिए आ सके।

इसके अलावा उन्होंने देवभूमित में अध्यात्मिक पर्यटन को लेकर कहा कि हम महाभारत सर्किट के साथ शिव सर्किट बनाने जा रहे हैं, जोकि महाभारत से जुडे इतिहास को दर्शएगा तो वहीं शिव सर्किट भगवान शिव के मंदिरों को आपस में जोड़ेगा। इसी तरह हम हर देवता के मंदिर का सर्किट बनाएंगे,ताकि अध्यात्मिक पर्यटक को राज्य में बढ़ावा दिया जा सके। आपको बता दें कि इस बार सरकार गणतंत्र दिवस के अवसर पर उत्तराखंड के ग्रामीण अचल की झांकी लगाने जा रही है। इसको लेकर मंत्री ने कहा कि इस झांकी में कही पर महिला ओखली कूटती हुई नजर आएगी, तो कहीं पर गीत गाते हुए दिखाया जाएगा, तो कही पर भोजन और मस्क बजता हुआ दिखाया जाएगा। इस झांकी के जरिए सरकार राज्य में ग्रामीण पर्यटक को बढ़ावा देगी, ताकि राज्य के युवाओं को रोजगार के लिए दूसरे राज्यों का मुंह न ताकना पड़े।