भाजपा विधायक 18 मार्च को चुनेंगे यूपी का नया सीएम

लखनऊ। विधानसभा चुनाव में पूर्ण बहुमत हासिल करने के बाद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) 18 मार्च को मुख्यमंत्री पद के लिए नाम का ऐलान कर देगी। इस दिन राजधानी में पार्टी के नवनिर्वाचित विधायकों की बैठक बुलायी गयी है। पार्टी के प्रदेश महामंत्री विजय बहादुर पाठक ने बताया कि बैठक में केन्द्रीय पर्यवेक्षक के तौर पर केन्द्रीय मंत्री वेंकैया नायडू और सांसद भूपेन्द्र यादव मौजूद रहेंगे। इस बैठक में पर्यवेक्षक सभी विधायकों से चर्चा कर उनकी राय जानेंगे और मुख्यमंत्री पद के लिए नाम की घोषणा की जायेगी।

बताया जा रहा है कि यह बैठक विधानसभा के तिलक हॉल या मुख्यमंत्री के नये कार्यालय लोकभवन में आयोजित की जायेगी। दरअसल मोदी लहर पर सवार होकर भाजपा ने 325 सीटें जीतने के साथ प्रचण्ड बहुमत हासिल किया है। इसलिए विधायकों की इतनी बड़ी संख्या के लिहाज से इन दोनों स्थानों में से किसी एक का चयन किया जा सकता है।

इस बैठक में राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल, राष्ट्रीय संगठन मंत्री शिवप्रकाश, प्रदेश प्रभारी ओम प्रकाश माथुर, प्रदेश सहप्रभारी सुनील ओझा, रामेश्वर चौरसिया आदि सहित प्रदेश संगठन महामंत्री सुनील बन्सल भी मौजूद रहेंगे।

वहीं सूत्रों की माने तो पार्टी ने मुख्यमंत्री पद के लिए राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) की सहमति ले ली है। तमिलनाडु के कोयम्बटूर में 19 मार्च से आयोजित होने वाली संघ की राष्ट्रीय प्रतिनिधि सभा के लिए वरिष्ठ पदाधिकारी पहले से ही पहुंच चुके हैं और विभिन्न बैठकों का सिलसिला जारी है।

इसी कड़ी में गुरूवार को पार्टी अध्यक्ष अमित शाह और राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल ने वहां जाकर संघ के वरिष्ठ पदाधिकारियों से मुलाकात की। माना जा रहा है इस मुलाकात में दोनों नेताओं ने मुख्यमंत्री के चेहरे के लिए नेताओं के नाम संघ के सामने रखें, जिसमें से एक पर संघ ने अपनी मुहर लगा दी। अब 18 मार्च को होनी वाली बैठक में पर्यवेक्षक इसी नाम को केन्द्रीय नेतृत्व के निर्देश पर विधायकों के सामने रखेंगे, जिस पर सभी अपनी औपचारिक स्वीकृति प्रदान कर देंगे। इसके बाद यह नाम सार्वजनिक किया जायेगा।