भाजपा नेता ने खून से खत लिखकर जाहिर की नाराजगी

शाहजहांपुर। यूपी के शाहजहांपुर में एक पूर्व भाजपा नेत्री ने प्रधान मन्त्री मोदी के नाम अपने खून से खत लिखकर अपनी नाराजगी जाहिर की है। 2012 में बीजेपी प्रत्याशी रह चुकी डा0 रागिनी सिंह ने अपने खून से चिटठी लिखकर बांटे गये टिकटों की जांच करने की मांग की है। रागिनी सिंह बीएसपी से निष्काषित रोशन लाल वर्मा को टिकट दिये जाने से नाराज है। उनका आरोप है कि रोशन लाल को पैसा लेकर टिकट दिया गया है। फिल्हाल पीएम के नाम से खून से लिखी चिटठी पीएम को भेज दी गई है।

दरअसल 2012 में तिलहर विधान सभा से प्रत्याशी रह चुकी डा0 रागिनी सिंह पिछले कई सालो से तिहलर में पार्टी के लिए प्रचार कर रही थी और इस बार 2017 के विधान सभा चुनाव में भी टिकट दिये जाने की मांग की थी। आरोप है कि  4 महीने पहले तिलहर से बीएसपी से निकाले गये रोशन लाल ने एक षणयन्त्र के तहत उन पर पार्टी अनुशासनहीनता का आरोप लगवाकर उन्हे पार्टी से बाहर करवा दिया। इसी बात से नाराज डा0 रागिनी सिंह ने अपने खून से देश के प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी के नाम खत लिख डाला। खत में मांग की गई कि टिकट के बंटवारे में जांच की जाये तो असलियत सामने आ सकती हैं। क्योकि जिस प्रत्याशी को टिकट दिया गया है वो कई गंभीर आरोपों से घिरे हुए हैं

दरअसल बीजेपी की पूर्व नेत्री रागिनी सिंह को करीब चार महिने पहले पार्टी से निकाल दिया गया था। उस वक्त रागिनी सिंह ने बीजेपी जिलाध्यक्ष राकेश मिश्रा पर पैसे लेकर पार्टी से निकालने काफी आरोप लगया था। रागिनी सिंह ने पार्टी से निकाले जाने पर पार्टी और जिलाध्यक्ष पर सवाल भी खङे कर दिए थे उनका कहना था कि उनको पार्टी से बर्खास्त सिर्फ प्रदेश  ही कर सकते हैं लेकिन उन्हें तो जिलाध्यक्ष ने ही पार्टी से बर्खास्त कर दिया। साथ ही उन्होंने बीजेपी जिलाध्यक्ष राकेश मिश्रा पर सीधे आरोप लगया था कि जिलाध्यक्ष ने बीएसपी से बर्खास्त और बीजेपी का दामन थामने वाले तिलहर विधानसभा से विधायक रोशन लाल वर्मा से पैसे लेकर उन्हे पार्टी से निकाला है।

अभिषेक, संवाददाता