राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए प्रत्याशी का पलड़ा ज्यादा भारी

देहरादून। उत्तराखंड विधानसभा भवन में अब से कुछ देर बाद भारत के राष्ट्रपति के चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। राष्ट्रपति पद के चुनाव में उत्तराखंड से एनडीए प्रत्याशी रामनाथ कोविंद को 72 फीसद से ज्यादा मत मिलने तय माने जा रहे हैं। बता दें कि उत्तराखंड के पांचों लोकसभा सांसदों के अलावा 70 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा के 57 सदस्य हैं। यही नहीं, दो निर्दलीय विधायकों प्रीतम सिंह पंवार और राम सिंह कैड़ा ने भी एनडीए प्रत्याशी के पक्ष में मतदान का ऐलान किया है। यानी, भाजपा को कुल 59 विधायकों का समर्थन हासिल है। उधर, कांग्रेस के पास तीन राज्यसभा सांसदों के अलावा 11 विधायकों का आंकड़ा है।

BJP, candidate, heavily, weighted, presidential elections, uttrakhand
presidential elections nda

उल्लेखनीय है कि राष्ट्रपति चुनाव के लिए देश में सभी सांसदों के मत का मूल्य समान होता है जबकि विधायकों के मत की कीमत हर राज्य में अलग-अलग होती है। एक सांसद के मत का मूल्य 708 है जबकि उत्तराखंड के एक विधायक का मत मूल्य 64 है। 57 भाजपा और दो निर्दलीय यानी 59 विधायकों के कुल 3776 मत राजग प्रत्याशी के पक्ष में हैं। साथ ही पांच लोकसभा सांसदों के 3540 मत भी भाजपा के पास हैं।

बता दें कि इस स्थिति में राज्य में कुल 10144 मतों में से 7316 मत एनडीए प्रत्याशी को मिलना तकरीबन तय है। कांग्रेस के पास राज्य में 11 विधायकों और तीन राज्यसभा सांसदों को मिलाकर 2828 मतों का आंकड़ा है। यानी यूपीए प्रत्याशी मीरा कुमार को उत्तराखंड से 2828 मत हासिल हो सकते हैं। विधानसभा के सभा मंडप में संपन्न होने वाले चुनाव में राज्य के 70 विधायकों सहित बिहार के भी एक विधायक मतदान करेंगे। बिहार के विधायक को भारत निर्वाचन आयोग ने यहां मतदान करने की स्वीकृति प्रदान की है। चुनाव को देखते हुए विधानसभा के अन्दर और बाहर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है।