भाजपा अब हाईटैक अंदाज में उतरेगी चुनावी जंग में…

लखनऊ। प्रदेश में अभी विधान सभा चुनावों की तिथियों का ऐलान नहीं हुआ है। लेकिन प्रदेस का राजनीतिक रण चुनावी दंगल के लिए तैयार हो गया है। हर पार्टियां जनता के बीच अपने अपने तरीकों से जा रही हैं। हर पार्टी अब थोड़ा प्रोफेशनल अंदाल में अपना चुनावी प्रचार करने का दम भर रही हैं।

up_bas

मिशन 2017 को लेकर कांग्रेस सपा और भाजपा हाईटेक तौर पर इस दंगल में उतर रहीं हैं। माना जा रहा है अब चुनाव के समर में पार्टियां केवल संगठन के ढांचे पर औऱ कार्यक्रताओं की मेहनत पर चुनाव लड़ती थी । लेकिन अब कोई राजनीतिक पार्टी इस बारे में कोई कोताही नहीं बरतना चाह रही है। अब पार्टियां अपने कार्यकर्ताओं के साथ प्रोफेशनल इवेंट कम्पनियों के सहारे मैदान में उतर रही हैं।

हाईटैक अंदाज में होगा बीजेपी का अभियान
भाजपा ने अपने चुनावी अभियान को और ज्यादा सफल बनने के साथ इसमें किसी भी तरह की कोई कोताही बरतना नहीं चाहती। इसके लिए भाजपा ने अपनी चुनावी समर के लिए अब प्रोफेशन तरीकों को अपना पर जोर दिया है। जहां एक तरफ अपनी संगठनात्मक नीति के तहत भाजपा सूबे में परिवर्तन यात्रा के जरिए जनता को जोड़ने की कवायत में जुटी है। लेकिन अब इस ओर भाजपा ने प्रोफेशलन कम्पनियों का सहारा लिया है। परिवर्तन यात्रा के जरिए जनता के बीच जा रही बीजेपी अब यात्रा और प्रत्याशियों के चयन के लिए फीडबैक के लिए प्रोफेशनल कम्पनियों के मार्फत अपनी तैयारियों को जांचने में जुटी है। इनके लिए पार्टी ने बाकायदा एक कम्पनी से करार किया है। जिसके जरिए वह अपने विधान सभा क्षेत्रों में 403 विडियो बैन उतारने जा रही है।

विडियो बैन होगी हर विधान सभा में तैनात
इसके पहले भाजपा ने लोकसभा चुनाव के दौरान अपनी रैलियों और होने वाले प्रचार की कमान प्रशान किशोर के हाथों में शौंपी थी। लेकिन इस बार प्रशान्त कांग्रेस की ओर से रणनीतिकार के तौरपर काम सम्भाल रहे हैं। इस लिहाज से अपने चुनावी सफर को तकनीकियों से लैस करने के लिए भाजपा ने एक प्राइवेट कम्पनी को इस विडियो बैन का काम सौपा है। ये बैन सूबे में विधान सभा वार क्षेत्रों में तैनात की जायेगी। इन वीडियो वैन का काम केवल भाजपा का चुनाव प्रचार ही है, इसके साथ भाजपा की होने वाली सूबे में जनसभाओं का विधान सभा के क्षेत्र में सीधा प्रसारण करना है।

चुनावी गतिविधियों से पार्टी को लगातर करायेगी अपडेट
सूबे के 403 विधान सभा क्षेत्रों में उतारी जा रही बैन । चुनाव तक चलेगी। यानी अभी से लेकर संभावित फरवरी तक ये बैन सूबे में दौड़ेगी। ये बैन लगातार विधान सभा क्षेत्रों में भ्रमण पर रहेगी। इस बैन के जरिए पार्टी जनता में अपनी स्थिति का आकलन करने के साथ अपने प्रचार प्रसार का काम भी अंजाम देगी। इसके लिए बैन के साथ प्रोफेशनलों का एक पैनल भी रहेगा। जो कि जनता के बीच सर्वे का काम भी करता रहेगा। जिसकी वो सीधी रिपोर्ट मुख्यालय तक देगा। इस बैन के जरिए पार्टी अपने संभावित प्रत्याशियों और दावेदारों की ओर से आयोजित कार्यक्रमों उनकी फोटो और विडियो को बैन के साथ आये पैलन टीम के सदस्य मुख्यालय भेजेंगे। विधान सभा वार होने वाली हर पार्टी से जुड़ी गतिविधियों पर भी पैनल की नजर होगी।

संभावित प्रत्याशियों के चयन के लिए भी होगी कारगर
पार्टी इस बार विधान सभा चुनाव में कोई कोर-कसर बाकी नहीं रखना चाहती । पार्टी जनता के रूझानों के साथ अपने संभावित प्रत्याशियों की स्थितियों और उनके दावों का भी आकलन इस बैन के साथ जुड़े पैलन से करायेगी। इसीलिए ये बैन भाजपा से जुड़े हर कार्यक्रम में विधान सभा में जायेगी और वहां पर संभावित प्रत्याशियों के लिए द्वारा आयोजित कार्यक्रमों की विडियो क्लिपिंग के साथ फोटो भी भेजेगा। जिसके आधार पर पार्टी दावेदारों के दावे और स्थितियों का आकलन उनके कार्यक्रम में आई भीड़ से करेगी। इसके अलावा पैलन संभावित दावेदारों की जनता के बीच मौजूदा माहौल पर भी अपनी रिपोर्ट हर शाम को मुख्यालय में देगा।

अपने चुनावी समर को हाईटैक बनाने के लिए भाजपा ने ये काम अलग-अलग कंपनियों को दिया है। इसके जिरिए वो अपने मुख्यालय पर एक टीम बैठाकर इन बैनों की गतिविधियों पर नजर रखेगी। इसमें टीम के कार्यों को अलग-अलग विभागों में भी बांटा गया है। जैसे बैन के साथ मौजूद पैनल के कामों और उनको दिशा निर्देशन इसके साथ ही बैन के आने जान चलन रूकने और गतिविधियों पर भी पूरी नजर रखी जायेगी।

piyush-shukla(अजस्रपीयूष)