जन्मदिन स्पेशल: लगातार दो शतक जड़ने वाली भारत की पहली महिला खिलाड़ी हैं मिताली राज

नई दिल्ली।  भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान मिताली राज का आज 35वां जन्मदिन है। वनडे मैच में 6000 से भी ज्यादा रन बनाने वाली मिताली राज भारत की उन चुनिदा खिलाड़ियों में से एक है जिन्होंने अपनी काबलियत और चौके-छक्कों की बदौलत विरोधी टीम को दातों तले लोहे के चने चबाने पर मजबूर कर दिया। मिताली राज सुर्खियों में तब आई जब उन्होंने साल 2002 में इंग्लैड के खिलाफ उन्ही की सरजर्मी पर 214 रनों की शानदार पारी खेली थी, जोकि भारतीय महिला टीम के इतिहास में कभी नहीं हुआ था। उन्होंने मात्र 19 साल की उम्र में ही ये रिकोर्ड बना दिया था। मिताली की शानदार पारी की बदौलत भारत वो मैच ड्रॉ करने में सफल रहा था।

उस मैच के दौरान भारत ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला लिया। उस मैच में इंग्लैंड की शुरुआत बहुत खराब रही, लेकिन धीरे प्रतिद्वंदि टीम के हौसले बुलंद होते चले गए और इंग्लैंड ने 6 विकेट खोकर 147 रनों का स्कोर खड़ा कर दिया।  भारतीय टीम मैच में दबदबा बनाते दिख रही थी, लेकिन इसके बाद सीजे कॉनोर और एलके न्यूटन ने इंग्लैंड की पारी को संभाल लिया और दोनों बल्लेबाजों ने अपनी टीम को संकट से उबारते हुए अपनी टीम का स्कोर को 250 के पार पहुंचा दिया। इसी बीच कॉनोर (48) पर आउट हो गईं। आखिर में न्यूटन के (98) और गॉलिमैन के (65) रनों की बदौलत इंग्लैंड ने पहली पारी में 329 रन बनाए।

जबाव में बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत अच्छी नहीं रही और टीम ने 45 रनों पर ही दो विकेट खो दिए। इसके बाद चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरी मिताली राज ने सधी शुरुआत करते हुए मैच में जान फुंक दी और मिताली ने इस मैच में दोहरा शतक जड़ते हुए 214 रन बनाते हुए रिकोर्ड अपने नाम कर लिया। मिताली ने 209 रन बनाने वाली कैरेन रॉल्टर को पीछे छोड़ते हुए ये उपलब्धी हासिल की। हालांकि इतना बड़ा स्कोर बनाने के बाद वो 407 गेंदों पर 214 रन बनाकर ऑउट हो गई, मिताली ने अपनी इस पारी में 17 चौके ठोके।

मिताली की बेहतरीन पारी की बदौलत भारत ने पहली पारी में 467 रन बनाए थे दूसरी पारी में इंग्लैंड की पारी लड़खड़ा गई लेकिन अंत में इंग्लैंड की टीम ने मैच को ड्रॉ कराने में कामयाबी पाई. दूसरी पारी में इंग्लैंड ने 6 विकेट खोकर 198 रन बनाए थे। मैच को मिताली की बेहतरीन पारी के लिए याद किया जाता है मिताली ने इस मैच में उस रिकॉर्ड को अपने नाम कर लिया था जिसके बारे में हर बल्लेबाज ख्वाब देखता है।

मिताली ने वनडे और टेस्ट क्रिकेट में 50 से ज्यादा के एवरेज से बल्लेबाजी की है वहीं टी20 क्रिकेट में उनका औसत 40 का रहा है. इसके साथ ही महिला वनडे क्रिकेट के इतिहास में मिताली राज 6000 रन बनाने वाली पहली महिला क्रिकेटर हैं। उन्होंने सिर्फ 183 मैचों में यह कारनामा किया है उनके इस कारनामे के चलते उन्हें महज 21 साल की उम्र में ही भारतीय महिला टीम का कप्तान बना दिया गया। साल 2013 में मिताली दुनिया की नंबर वन वनडे क्रिकेटर भी रही थी।