जन्मदिन विशेषः जब हेमा से शादी के लिए धर्मेंद्र बन गए थे दिलावर खान

मुंबई। बॉलीवुड के हीमैन धर्मेंद्र आज अपना 82वां जन्मदिन मना रहें हैं। बॉलीवुड में जो जगह धर्मेंद्र ने बनाई है उसे सालों तक लोग भुला नहीं पाएंगे। फिल्मों में मस्ती करने तो कभी एंग्री मैन के लुक में दिखने वाले हैंडसम धर्मेंद्र की निजी जिंदगी फिल्मी मसालों से भरी पड़ी थी जिसमें कहानी था, इमोशन था, ड्रामा था और थोड़ी ट्रेजेडी भी।

मुंबई फिल्मफेयर टेलेंट हंट में भाग लेने गए धर्मेंद्र की मुलाकात फिल्म निर्माता अर्जुन हिंगोरानी से हो गई। बस यहीं से धर्मेंद्र का फिल्मी सफर शुरु हो गया। 1960 में फिल्म ‘दिल भी तेरा, हम भी तेरे’ में उन्होंने पहल बार अभिनय किया। पर्दे पर इस नौजवान खूबसूरत एक्टर को देखकर दर्शकों ने उन्हें अपना लिया और बॉलीवुड को मिल गया एक उभरता सितारा।

 

हिंदी सिनेमा में तो धर्मेंद का योगदान तो अतुलनीय है, लेकिन जो सबसे दिलचस्प कहानी थी तो वो थी उनकी निजी जिंदगी की। सीता और गीता के सेट पर जब धर्मेंद और हेमा पहली बार मिले तो कोई और कहानी ही बनने लगी। बेहद खूबसूरत और टैलंटेड एक्ट्रेस हेमा मालिनी का जादू धर्मेंद्र पर ऐसा चला की वो उनके कायल हो गए। धर्मेंद को हेमा से प्यार हो चुका था, लेकिन वो पहले से ही शादी-शूदा थे। इन सबके बावजूद भी वो हेमा के साथ ही काम करना चाहते थे। कहते हैं कि शोले की शूटिंग के दौरान धर्मेंद जानबूझकर रीटेक लिया करते थे ताकी हेमा के साथ ज्यादा से ज्यादा वक्त बिता सकें।

समस्या सिर्फ धर्मेंद्र की शादी-शूदा होने की नहीं थी। धर्मेंद्र के साथ-साथ हेमा के और भी दीवाने थे। एक तरफ संजीव कुमार तो वहीं जितेंद्र भी हेमा को चाहने लगे थे। इन सबके बीच में हेमा ने धर्मेंद्र को अपना जीवनसाथी चुना।

पहली बीवी से तलाक नहीं ले पाए तो हेमा से शादी करने के लिए धर्मेंद्र ने धर्म परिवर्तन करा लिया। उस वक्त धर्मेंद्र बने दिलावर खान और हेमा बनीं आएशा बी। इनके प्यार को अंजाम मिल गया, लेकिन जब ये बात मीडिया में आई तो बड़ा बवाल मच गया। विवाद के बाद भी धर्मेंद्र और हेमा ने ने अपने रिश्ते पर कोई असर नहीं पड़ने दिया। 2 मई 1980 को दोनों ने हिंदू रीति रिवाज से शादी कर सबके मुंह पर ताला लगा दिया।