मिट्टी घोटाले में फंसे लालू प्रसाद यादव को मिली क्लीन चिट

पटना। बिहार सरकार ने राज्य के सत्तारूढ़ महागठबंधन के प्रमुख घटक राजद के सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव और उनके परिवार को मिट्टी घोटाला में क्लीन चिट दे दी है। सूत्रों के हवाले से मिल रही जानकारी के मुताबिक मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने मिट्टी की खरीद से संबंधित दस्तावेजों की जांच की। सूत्रों ने बताया कि जांच के दौरान किसी भी तरह की अनियमितता का कोई सबूत अभी तक नहीं मिला है और सरकार ने पाया कि बिहार में मिट्टी का कोई घोटाला हीं नहीं हुआ है।

सूत्रों का ये भी कहना है कि लालू प्रसाद यादव और उनके परिवार पर बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी की ओर से लगाये गए आरोपों का सरकार ने संज्ञान लिया जिसके बाद मुख्य सचिव ने आरोपों से जुड़े मामले में राज्य के जंगल विभाग से जानकारी मांगी और जांच के बाद राजद नेता और उनके परिवार को क्लीन चिट दे दी।

गौरतलब है कि संजय गांधी जैविक उद्द्यान से सटे पटना हवाई अड्डा के रनवे में आ रही बाधाओं को दूर करने के लिए बड़ी संख्या में उद्यान के पेड़ों को या तो काट दिया गया था या फिर उनकी छंटाई की गई थी। सूत्रों ने यह भी बताया कि उद्यान में वर्ष 2012 के बाद से कई पेड़ गिर गए जिसकी जगह पर नए पौधे लगाये जा रहे हैं जिसके लिए मिट्टी खरीदी गई थी।

मुख्य सचिव ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि 90 लाख की नहीं, केवल नौ लाख रुपये की मिट्टी का उद्द्यान में उपयोग हुआ है जिसमें कोई घोटाला नहीं हुआ है। मुख्य सचिव ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि उद्यान में मिट्टी भरने में कुल खर्च 41 लाख खर्च ही हुए हैं। इस बीच मुख्य सचिव की रिपोर्ट आने के बाद राजद विधायक शक्ति सिंह यादव ने कहा कि सुशील मोदी का झूठ का पर्दाफाश हो गया है। उन्होंने सुशील मोदी से इस्तीफे की मांग करते हुए कहा कि भाजपा नेता को जनता से माफी मांगनी चाहिए।