शराबबंदी के बाद दहेज प्रथा और बाल विवाह का होगा विरोध, 2 अक्टूबर से चलाया जाएगा अभियान

बिहार। जहां एक तरफ सरकार ने शराबबंदी की है तो अब सरकार की तरफ से एक और समाज के लिए अहम कदम उठाया जा रहा है। दरअसल शराबबंदी के बाद अब सीएम नीतीश कुमार दहेज प्रथा और बाल विवाह के खिलाफ अभियान को तेज कर दिया है। यह अभियान सीएम नीतीश कुमार दो अक्टूबर को गांधी जयंति के अवसर पर शुरु करने वाले हैं।

cm nitish kumar

सीएम नीतीश कुमार द्वारा चलाए जा रहे इस अभियान को समाज में परिवर्तन लाने के लिए बड़ा कदम माना जा रहा है। सीएम नीतीश ने कुमार अपने भाषण के दौरान कई बार बाल विवाह और दहेज प्रथा को खत्म करने के बारे में बात की है। लेकिन अब वह दो अक्टूबर गांदी जयंति के मौके पर इसके लिए अभियान को शुरू करने वाले हैं। जानकारी है कि अभियान शुरू करने के बाद लाखों लोग शपथ लेंगे की वह दहेज प्रथा और बाल विवाह के खिलाफ आवाज उठाएंगे और इसे रोकेंगे।

लोगों को शपथ दिलाई जाएगी को ना ही वह दहेज लेंगे और ना ही दहेज देंगे। बता दें कि 2007 में शराबबंदी के समर्थन में काफी बड़ी मानव श्रृंखला बनाई गई थी। इसी तरह दहेज प्रथा और बाल विवाह के विरोध में लोगों को शपथ दिलाई जाएगी। यह कार्यक्रम समाज कल्याण विभाग की तरफ से आयोजित किया जा रहा है। साथ ही इस कार्यक्रम का प्रसारण भी किया जाएगा। आम लोगों के साथ-साथ इस कार्यक्रम में सरकारी कर्मचारी भी शपथ लेंगे। कार्यक्रम में थाना, नगर निकायों, आंगनबाडी केंद्र, सभी स्कूल, स्वास्थ्य केंद्रों के बीच भी यह शपथ दिलाई जाएगी।