भगवंत मान ने किया पंजाब में आप पार्टी के संगठन को भंग

चंडीगढ़। पंजाब में आम आदमी पार्टी के नवनियुक्त प्रदेशाध्यक्ष भगवंत मान ने सोमवार को पहली ही बैठक में अहम फैसला लेते हुए पार्टी का तमाम संगठनात्मक ढांचा भंग कर दिया। मान ने जिन लोगों को पदों से हटाया है उनमें से अधिकतर की नियुक्तियां पंजाब विधानसभा में चुनाव से पहले तथा चुनाव के दौरान पूर्व संयोजक रहे सुच्चा सिंह छोटेपुर तथा गुरप्रीत सिंह घुग्गी द्वारा की गई थी।

भगवंत मान द्वारा पूर्व समय में की गई सभी नियुक्तियों को रद्द किए जाने के बाद एक बड़ा संकेत यह भी गया है कि दिल्ली दरबार के नेताओं ने भगवंत मान को अब पूरी तरह फ्री हैंड दे दिया है। जिसके चलते विवादों में घिरने के बावजूद भगवंत मान ने आज बड़ा फैसला लिया है।

आम आदमी पार्टी में भगवंत मान को संयोजक बनाए जाने के तुरंत बाद विधानसभा में चीफ व्हिप तथा प्रवक्ता पद से इस्तीफा देने वाले सुखपाल सिंह खैहरा आज बैकफुट पर नजर आए। खैहरा ने कहा कि उन्हें भगवंत मान के साथ व्यक्तिगत रूप से कोई नाराजगी नहीं है। उन्होंने पार्टी के सिद्धांतों से हटने के कारण अपने पद से इस्तीफा दिया था। खैहरा ने उम्मीद जताई की भगवंत मान पार्टी की नीतियों के अनुसार जनता में काम करते हुए सभी नेताओं को एक मंच पर लेकर आएंगे।

आज यहां आयोजित की गई बैठक में विधायक दल के नेता एच.एस. फूलका, सुखपाल सिंह खैहरा समेत लगभग सभी विधायकों ने भाग लिया। इसके अलावा भगवंत मान ने चुनाव हारने वाले पार्टी प्रत्याशियों से मुलाकात करके उनसे भी चुनाव के समय का फीडबैक लिया। बैठक में प्रत्येक पहलू पर मंथन के बाद आप ने पंजाब के संगठनात्मक ढांचे, पार्टी के सभी प्रकोष्ठों को तुरंत प्रभाव से भंग कर दिया। संगठन में नई नियुक्तियों से पहले पार्टी के सह-संयोजक एवं विधायक अमन अरोड़ा को पंजाब के लोगों, कार्यकर्ताओं व नेताओं की नब्ज टटोलने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। अमन अरोड़ा 18 मई से पंजाब दौरा शुरू करेंगे। इस दौरे के बाद सबसे पहले पार्टी में प्रदेश स्तरीय ढांचे का गठन किया जाएगा और दूसरे चरण में जिला तथा विधानसभा क्षेत्रों में पार्टी का संगठन खड़ा किया जाएगा।

बैठक के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए भगवंत मान ने कहा कि पार्टी को बूथ स्तर तक मजबूत करना उनका मुख्य लक्ष्य है। मान ने कहा कि पार्टी ने गुरदासपुर उपचुनाव लड़ने की भी योजना बनाई है ताकि पहले पार्टी के तमाम नेताओं को एक मंच पर एकत्र किया जाएगा। मान ने कहा कि इस समय पार्टी में किसी तरह का विरोध नहीं है और पार्टी पूरी एकजुटता के साथ पंजाब में सरकार की जनविरोधी नीतियों का विरोध करेगी।