दिव्यांग रुपाली ने ऑस्ट्रेलिया में लहराया भारत की जीत का परचम

बेगूसराय। कहते है कि बिहार में प्रतिभा की कमी नहीं है और इसका जीता जागता उदाहरण रुपाली झा है। रूपाली बिहार के बेगूसराय की रहने वाली है लेकिन उसने अपने काम के बूते भारत का नाम विदेश में रौशन किया है।

बोलने और सुनने में असक्षम रुपाली बेगूसराय से 5 किलोमीटर दूर मुफ्फसिल थाना क्षेत्र के सूजा गांव की रहने वाली है। इसके पिता का नाम अनिल झा है। रुपाली ने 14 से 24 मार्च तक ऑस्ट्रेलिया में आयोजित स्पेशल ओलंपिक विंटर गेम्स के फ्लोर हॉकी में अपने खेल का शानदार प्रदर्शन किया जिसमें भारत की महिला टीम ने रजत पदक जीतकर विदेश में भी देश का नाम बढ़ाया है।

हाल ही में महिला टीम के भारत लौटने पर उसका एयरपोर्ट पर भव्य स्वागत किया। साथ ही खेल मंत्रालय से जुड़े लोगों ने भी जीत की बधाई दी। वहीं अपनी दिव्यांग बेटी की सफलता पर परिवार को नाज है और उसके गांव वाले खुशी से फूले नहीं समा रहे। रुपाली के अपने गांव पहुंचते ही मिलने वालों का उसके घर के बाहर तातां लगा हुआ था और लोगों ने उसे गुलाल लगातार अपनी खुशी जाहिर की।