केले के छिलके के कारण जमकर हुआ बवाल

मेरठ। सिविल लाइन थाना क्षेत्र के न्यू मोहनपुरी इलाके में केले के छिलके के कारण जमकर बवाल हुआ। एक महिला सफाईकर्मी द्वारा घर के सामने केले के छिलके फेंकने का विरोध करना सांसद के रिश्तेदार सेवानिवृत्त जीएम को भारी पड़ गया। महिला सफाईकर्मी ने जीएम साहब और उनकी पत्नी पर खुद के साथ मारपीट करने और जातिसूचक शब्द कहने का आरोप लगाते हुए साथियों के जमकर हंगामा किया। जिसके बाद पुलिस ने आरोपी और उसकी पत्नी को हवालात में डाल दिया।

सूरजकुंड वाल्मीकि बस्ती निवासी राजेशवती पत्नी जगपाल सोमवार की सुबह न्यू मोहनपुरी क्षेत्र से कूड़ा उठा रही थी। राजेशवती के अनुसार दयालेश्वर मंदिर से उसने केले के छिलके उठाए और निकट ही एक गाय को डाल दिए। आरोप है कि इसी दौरान मकान नंबर 118 में रहने वाले जेपी सीमेंट से जीएम के पद से सेवानिवृत्त अरविंद गोयल ने अपने घर के सामने केले के छिलके डालने का विरोध करते हुए अपनी पत्नी शोभा के साथ राजेशवती की डंडो से पिटाई कर डाली और विरोध करने पर उसे जातिसूचक शब्द कहते हुए भुगत लेने की धमकी भी दी।

इसी बीच राजेशवती ने अपने परिजनों को कॉल कर दी। जिसके बाद परिजन अपने साथ कई सफाई कर्मचारी नेताओं की भीड़ लेकर मौके पर आ धमके और हंगामा शुरू कर दिया। हंगामे की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस दोनों पक्षों को थाने ले आई। आरोपी दंपत्ति के खिलाफ कार्यवाही की मांग को लेकर सफाई कर्मचारियों ने सिविल लाइन थाने में भी जमकर हंगामा किया, उन्होंने आरोप लगाया कि चूंकि आरोपी भाजपा सांसद राजेन्द्र अग्रवाल के रिश्तेदार हैं, इसलिए पुलिस मामले को रफादफा करने में जुटी है।

इस दौरान मोनिन्दर सूद वाल्मीकि, कैलाश चंदोला, राजू धवन, विपिन मनौठिया, मुन्नालाल, सोनू वाल्मीकि आदि ने आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही न होने पर थाने में धरने का ऐलान कर दिया तो पुलिस के हाथ-पांव फूल गए। पुलिस ने पीड़ित पक्ष से तहरीर लेते हुए आरोपी अरविंद गोयल और उनकी पत्नी शोभा को थाने में बैठा लिया। पुलिस हिरासत में अरविंद ने अपने ऊपर लगे आरोप का खंडन करते हुए उल्टा सफाईकर्मियों द्वारा खुद के साथ मारपीट किए जाने का आरोप लगाया। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

राहुल गुप्ता, संवाददाता