बादल सरकार में केवल हुआ उद्घाटन लेकिन कैप्टन ने करवाया संचालन शुरू

अमृतसर। पंजाब की पूर्व अकाली-भाजपा सरकार ने हरिके पत्तन में पानी में बस चलाने का सपना संजोया था। इस सपने को लेकर तत्कालीन उपमुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल ने औपचारिक उद्घाटन बीते साल 12 दिसम्बर को कर दिया था। लेकिन ये सपना हाथी दांत होता दिख रहा था। लेकिन मौजूदा कांग्रेस सरकार के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आखिरकार पूर्व उपमुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल का वो सपना पूरा कर दिया है। अब हरिके क्रूज बस से रोजाना पर्यटक यात्रा कर इसका आनंद उठा सकेंगे।

सूत्रों की माने तो बस को असेंबल करने में हुई देरी के चलते बादल सरकार के दौरान यह सपना ही बन गया था। क्योंकि विदेश से आने वाले किसी भी वाहन पर कस्टम ड्यूटी लगती है। ये कस्टम ड्यूटी तकरीबन 300 फीसदी तक होती है। इसी पेमेंट के बाद ही सामान की डिलीवरी होती है। बस ये जल बस इसी कस्टम की फेर में फंस गई थी। जिसके चलते सरकार के जाने के बाद ये सपना पूरा हो सका।

जलबस का ये होगा किराया और रूट
– 42 सीटर जल बस अमृतसर से हरिके और वाया वाघा बार्डर से दोबारा अमृतसर- 2000 रुपये प्रति व्यक्ति (साथ में लंच भी)
– केवल हरिके में झील में घूमने का किराया- 800 रुपये प्रति व्यक्ति
– सीनियर सिटीजन और 14 साल से कम आयु के बच्चों के लिए किराये में 25 फीसद की छूट