हार्ट ऑफ एशिया सम्मेलन के लिए भारत अाएंगे अजीज

इस्लामाबाद| भारत और पाकिस्तान के बीच बढ़े तनाव के बीच अमृतसर में शनिवार से हार्ट ऑफ एशिया सम्मेलन शुरू हुआ। इसके साथ ही इस सम्मेलन से इतर दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय बातचीत शुरू होगी या नहीं इसके कयास भी लगाए जाने लगे हैं। प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज इस सम्मेलन में भाग लेने  अमृतसर जा रहे हैं।

sartaj-aziz

अजीज इस सम्मेलन में पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व कर रहे हैं। यह सम्मेलन अफगानिस्तान और उसके पड़ोसियों के बीच क्षेत्रीय सहयोग पर केंद्रित है। इसका मकसद बेहतर संपर्क बनाना और युद्ध से तबाह देश में सुरक्षा के खतरों से निपटना है। शनिवार को इस सम्मेलन में रविवार की बैठक की सामग्री को अंतिम रूप दिया जाएगा।पाकिस्तान, अफगानिस्तान, अजरबैजान, चीन, भारत, ईरान, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, रूस, सऊदी अरब, ताजिकिस्तान, तुर्की, तुर्कमेनिस्तान और यूनाइटेड अरब अमीरात (यूएई) हार्ट ऑफ एशिया इनिशिएटिव के हिस्से हैं। इसकी शुरुआत वर्ष 2011 में की गई थी।

इसका मकसद अफगानिस्तान और इसके पड़ोसी देशों के बीच आतंकवाद, चरमपंथ और गरीबी जैसी समान समस्याओं से निपटने के लिए आर्थिक एवं सुरक्षा सहयोग को बढ़ावा देना है।छह प्रमुख क्षेत्र हैं, जिनमें 14 देश वर्ष 2013 से ही विश्वास बहाली के उपाय करने में लगे हैं। ये क्षेत्र हैं आपदा प्रबंधन, आतंकवाद का मुकाबला, मादक पदार्थ निषेध, व्यापार और निवेश, क्षेत्रीय संरचना और शिक्षा। इस प्रक्रिया का और 17 अन्य ने समर्थन किया है। इनमें अधिकांश पश्चिमी देश हैं और 12 अंतर्राष्ट्रीय संगठन हैं। पाकिस्तान सरकार ने भारत के साथ रिश्ते अत्यंत ठंडे होने के बावजूद इस सम्मेलन में भाग लेने का निर्णय लिया है।पाकिस्तान ने यह फैसला तब भी किया, जब भारत ने पिछले माह नवंबर में इस्लामाबाद में दक्षेस सम्मेलन को विफल कर दिया था।

इस बात पर रहस्य बना हुआ है कि क्या भारत और पाकिस्तान इस अवसर को द्विपक्षीय बातचीत के लिए इस्तेमाल करेंगे? हालांकि भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने इसकी संभावना खारिज कर दी है।स्वरूप ने शुक्रवार को कहा था कि आतंकवाद के माहौल में बातचीत जारी नहीं रह सकती है। भारत आतंकवाद के जारी रहने को द्विपक्षीय सामान्य रिश्तों की नई सामान्य स्थिति के रूप में कभी स्वीकार नहीं करेगा।