आयेंद्र के समर्थन में फूटा समर्थकों का गुस्सा

देहरादून। उत्तराखण्ड में विधानसभा चुनावों का बिगुल बज चुका है। चुनाव को लेकर जैसे-जैसे विभिन्न पार्टियां अपने उम्मीदवारों के नाम घोषणा कर रही हैं, वहीं टिकट न मिलने से निराश नेताओं और समर्थकों का गुस्सा सार्वजनिक हो रहा है। रविवार को कांग्रेस ने अपने प्रत्याशियों की सूची जारी कर दी है। सूची के आते ही पार्टी के नेताओं में बगावत के सुर देखने को मिल रहे है। रविवार को पार्टी के आयेंद्र शर्मा के समर्थकों ने टिकट ना मिलने से नाराज होकर कांग्रेस कार्यालय के बाहर हंगामा किया और पार्टी कार्यालय पर लगे पोस्टर तक फाड़ दिए। लोगो की मांग है कि प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय का सहसपुड से टिकट काटा जाये और अरएन्द्र शर्मा को टिकट दिया जाए।

आयेंद्र के समर्थकों का गुस्सा सोमवार सुबह भी देखने को मिला। समर्थकों ने सड़कों पर जमकर हंगामा किया। सड़कों पर उतरे समर्थकों ने पहले आयेंद्र के समर्थन में नारेबाजी की। फिर पार्टा कार्यालय पर लगे पोस्टर फाड़कर कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के खिलाफ नारेबाजी।

किशोर उपाध्याय से खफा है आयेंद्र के समर्थक

शर्मा के समर्थकों का कहना है कि किशोर का विरोध करने के लिए हमे कुछ भी करना पड़ा तो वो करने के लिए तैयार है ।लेकिन सहसपुर से किशोर उपाध्याय को वो कांग्रेस से लड़ने नहीं देंगे ।समर्थकों का कहना है कि अरएन्द्र शर्मा पिछले कई सालों से इस सीट पर कांग्रेस और आम जनता के लिए काम कर रहे थे और वो उनके अलावा किसी को वहा नहीं देख सकते।

भारत खबर से बातचीत में आयेंद्र शर्मा ने कहा कि दिल्ली से वापस अपने क्षेत्र जाने के बाद वो हालातों का जायजा लेकर जनता जो कहेगी उस पर काम करेंगे। साथ ही जो जनता उनसें करने के लिए कहेगी वो वही करेंगे। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि जनता का आदेश उनके लिए सर्वोपरि है। इस समय जो स्थिति प्रदेश में बनी हुई है उस पर विचार करने के लिए वो पार्टी हाईकमान से बात करेंगे। उन्होंने यह भी कहा ताजा हालातों को देखते हुए पार्टी हाईकमान अपने फैसले पर दोबारा विचार कर सकते हैं।  बता दें कि रविवार को आयेंद्र शर्मा ने भारत खबर से कहा था कि उन्हें टिकट ना मिलने से थोड़ी से हैरानी है।

किशोर उपाध्याय ने भारत खबर से बातचीत में कहा कि पार्टी में ऐसा कभी नहीं हुआ ह। अब लोग इस तरह की चीजें विकसित कर रहे हैं।

ये भी पढ़ेंः प्रत्याशियों की सूची जारी होते ही दो भागों में बंटी कांग्रेस!