भारत-चीन तनाव पर बोले असम के राज्यपाल, ‘चीन ज्यादा ताकतवर’

इन दिनों भारत चीन सीमा पर खासा तनाव देखा जा रहा है। दोनों देशों के बीच बढ़ते तनाव को देखते हुए आए दिन कुछ ना कुछ नया वाक्ये सामने आ रहे हैं। सिक्किम में भारत चीन विवाद आए दिन बढ़ता ही जा रहा है। ऐसे में असम के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित की तरफ से एक बयान सामने आया है। राज्यपाल के जरिए दिए गए बयान के बाद अब स्थिति और भी ज्यादा खराब होने की आशंका जताई जा रही है। राज्यपाल बनवारीलाल परोहित ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा है कि चीन से युद्ध भारत को नहीं करना चाहिए।

जानकारी के अनुसार राज्यपाल का कहना है कि भारत और चीन के आजाद होने में ज्यादा सालों का अंतर नहीं है। उनका कहना है कि चीन भारत से कही ज्यादा आगे है। राज्यपाल का कहना है कि चीन भारत से ताकत में कही ज्यादा आगे है इसलिए भारत को चीन से युद्ध नहीं करना चाहिए। उनका कहना है कि भारत चीन से लड़ाई में इसलिए पीछे हट रहा है क्योंकि चीन भारत के ताकत में कही ज्यादा आगे है। सीमा पर बढ़ते तनाव को देखते हुए शुक्रवार को सरकार ने सिक्किम में नाथूला के रास्ते जाने वाली कैलाश मानसरोवर यात्रा को रद्द कर दिया है। दिल्ली में जमा हुए श्रद्धालुओं के तीसरे जत्थे को यात्रा के लिए रोक दिया गया। कैलाश मानसरोवर की यात्रा को भारत चीन सीमा पर बढ़ते तनाव के कारण रद्द किया गया है। सूत्रों के हवाले से जानकारी है कि कैलाश मानसरोवर की यात्रा नाथूला के रास्ते नहीं होनी है लेकिन उत्तराखंड में लिपूलेख दर्रे के रास्ते इस यात्रा को जारी रखा जाएगा।

बता दें कि चीन ने श्रद्धालुओं को तिब्बत में प्रवेश कराने के लिए दोकलाम इलाके से भारत के सैनिकों को वापस बुलाने की शर्त रखी है। लेकिन सरकार ने इस शर्त को ना मानते हुए यात्रा को रद्द कर दिया है। ऐसे में जानकारी यह भी है कि नाथूला दर्रे से यात्रियों को चीन में प्रवेश करने की मंजूरी नहीं दी गई है। लेकिन उत्तराखंड के रास्ते चीन में दाखिल होने की मंजूरी मिल सकती है। आपको बता दें कि इस वक्त भारत चीन सीमा पर खासा तनाव की स्थिति बनी हुई है। चीन भारत और भूटान की सीमा पर स्थिति डोकलाम क्षेत्र में सड़क का निमार्ण कर रहा है। जिस निर्माण को लेकर भारत और भूटान की ओर से आपत्ति आई है। जिसके बाद भारतीय सेना ने वहां पर काम बंद करा दिया है। भूटान ने इस बारे में आरोप लगाते हुए चीन से कहा है कि उसने समझौते का उल्लघंन कर सड़क का निर्माण कर रहा है।