नागौर में वस्त्रालय मोबाइल एप के शुभारंभ के साथ ही हुआ विमोचन

जयपुर। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्यमंत्री और नागौर जिले के प्रभारी बंशीधर खण्डेला ने 15 अप्रैल को नागौर के कलेक्ट्रेट सभागार में सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र में स्थानीय नवाचार के तहत वस्त्रालय मोबाइल एप का शुभारंभ किया। इस एप के माध्यम से कोई भी नागरिक अपने पुराने वस्त्र दान करने का आवेदन नगरपालिका स्थित संग्रहण केन्द्र पर ऑनलाइन भेज सकेगा। जहां से संबंधित पालिका का कार्मिक आकर वस्त्र ले जाएगा। जिससे वस्त्र जरूरतमंदों को सुलभता से उपलब्ध हो सकेगें।

जिला कलेक्टर राजन विशाल ने बताया कि कपड़ा बैंक 2000 कपड़ों के साथ 23 सितम्बर 2016 को शुरू हुआ था और आज कपड़ा बैंक में 50 हजार से अधिक कपड़े एकत्रित है। जिले की 11 नगर पालिका क्षेत्र में कपड़ा बैंक कार्य कर रहा है। वस्त्रालय मोबाइल एप का निर्माण जिला कलेक्टर के निर्देशन में सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के दल द्वारा किया गया। जिसमें एसीपी घनश्याम गोयल, प्रोग्रामर पंकज छींपा तथा नलीन वर्मा शामिल थे।

इस अवसर पर प्रभारी मंत्री बंशीधर खण्डेला सहित प्रभारी सचिव संजय मल्हौत्रा, जिला कलेक्टर राजन विशाल, नागौर विधायक हबीर्बुरहमान आदि ने वस्त्रालय एप के ब्रोशर का विमोचन भी किया। इस ब्रोशर में एप को विकसित करने का उद्देश्य सहित एप को इस्तेमाल करने की सम्पूर्ण जानकारी दी गई है। जिला प्रभारी मंत्री ने शनिवार को मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान के तहत अमरसिंह छतरियों के पास 5 लाख रुपये की लागत से बन रही बावडी का अवलोकन किया। निर्माणधीन बावड़ी के पास स्थित जड़ा तालाब को भी देखा। जिला कलेक्टर ने बताया कि जडा तालाब क्षेत्र में सिटी पार्क विकसित किया जा रहा है।

प्रभारी मंत्री ने कलेक्टर परिसर में मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान के तहत बने वर्षा जल संग्रहण टेंक को भी देखा। जिला कलक्टर ने बताया कि कलेक्टर परिसर की सम्पूर्ण छत से इस टेंक को जोड़ा गया है। प्रभारी मंत्री ने कहा कि बने हुए टेंक की साफ-सफाई पर पूरा ध्यान दिया जाए। भण्डारण होने वाला पानी फिल्टर होकर टेंक में पहुंचे इसके पक्के बन्दोबस्त किए जाए। प्रभारी सचिव ने कहा कि पानी के भण्डारण का प्रबन्धन इस तरह हो की पानी की गुणवता में किसी तरह की कमी ना आए।