निर्देशक के रूप में मेरे अपने निश्चित सिद्धांत : करण जौहर

नई दिल्ली। जाने माने फिल्म निर्माता करण जौहर का मानना है कि एक फिल्म निर्माता के रूप में वह हमेशा कुछ नया करने की सोचते हैं,
लेकिन एक निर्देशक के रूप में वो बिल्कुल अलग है। इसके साथ ही करण का मानना है कि निर्देशक के रूप में वो एक निश्चित सिद्धांत के अनुसार काम करते हैं और इसी वजह से उन्होंने ‘कपूर एंड संस’ फिल्म के लिए शकुन बत्रा को निर्देशक के रूप में चुना।

karan2

विभिन्न शैलियों वाले फिल्मों से प्रयोग नहीं करने के सवाल पर उन्होंने कहा, “मैं नहीं जानता कि ऐसी फिल्मों को कैसे निर्देशित करते हैं। मैं शकुन बत्रा जैसा प्रतिभावान नहीं हूं। मेरे निर्देशन के कुछ अपने सिद्धांत हैं, शकुन में एक उत्कृष्ट प्रतिभा है और उनके काम का तरीका काफी अलग है।”

बरहाल, करण जौहर आजकल ‘झलक दिखला जा’ के नौवें सीजन में जज की भूमिका में नजर आ रहे हैं और इस बार उन्होंने जज के रुप में सख्त होने का फैसला किया है। उन्होंने ‘इंडिया गॉट टैलेंट’ में भी जज की भूमिका निभाई है। उनका मानना है कि टैलेंट हंट शो में सेलेब्रिटी कंटेस्टंट शो की तुलना में असंवेदनशील तरीके से निर्णय होता है।

‘झलक दिखला जा’ एक सेलेब्रिटी शो है। इसमें सेलेब के बीच प्रतिस्पर्धा होती है। इसलिए निर्णय करते वक्त संवेदनशल होना जरूरी है। आप असंवेदनशील होकर निर्णय नहीं दे सकते, क्योंकि वास्तविक जीवन में वे सभी सेलेब्रिटी हैं। लेकिन पिछले साल की अपेक्षा इस साल मैंने सख्त होने का निर्णय किया है।