सुरक्षा कारणों से दिनभर के निलंबन के बाद अमरनाथ यात्रा हुई बहाल

जम्मू। सुरक्षा कारणों से एक दिन के लिए निलंबित की गई श्री अमरनाथ यात्रा रविवार को फिर से बहाल हो गई। आज जम्मू में भगवती नगर आधार ष्शिविर से 4,411 तीर्थयात्रियों का एक जत्था बालटाल ओर पहलगाम में आधार शिविरों के लिए रवाना हुआ।

अधिकारियों ने बताया कि 4,411 तीर्थयात्रियों का एक नया बैच सुबह 4.05 बजे घाटी के लिए 140 वाहनों में कड़े सुरक्षा प्रबंधों के बीच भगवती नगर यात्री निवास से रवानरा हुआ। सुरक्षा कारणों से यात्रा शनिवार को निलंबित कर दी गई थी। हिमालय पर स्थित गुफा में पवित्र हिमलिंग के दर्शन करने के लिए 40 दिन की लंबी यात्रा 29 जून को शुरू हुई थी और 7 अगस्त को रक्षा बंधन त्यौहार के साथ श्रावण पूर्णिमा को समाप्त हो जाएगी।
अभी तक, 1.26 लाख से अधिक तीर्थयात्रियों ने समुद्र तल से ऊपर 3,888 मीटर की दूरी पर स्थित हिमलिंग के दर्शन कर लिए हैं। भक्तों का मानना है कि हिमलिंग की संरचना भगवान शिव की पौराणिक शक्तियों का प्रतीक है। इस वर्ष की यात्रा के दौरान अब तक 10 तीर्थयात्री मारे गए हैं।

हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी की पहली पुण्यतिथि पर अलगाववादियों द्वारा हड़ताल का ऐलान किए जाने के बाद सुरक्षा कारणों से जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर यात्रा को निलंबित कर दिया गया था। बुरहान वानी पिछले साल सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में मारा गया था। तीर्थयात्रियों का नया बैच आज सुबह सुबह बाल्टाल और नूनवान पहलगाम बेस कैंपों के लिए जम्मू में भगवती नगर से रवाना हुआ तो इसी तरह, जिन तीर्थयात्रियों जो हिमलिंग के दर्शन करने के बाद बालटाल और पहलगाम बेस कैंप में रोका गया था, वे भी आज सुबह जम्मू के लिए रवाना हो गए।